Alert : जीका वायरस की भारत में दस्तक, गुजरात में तीन केस की पुष्टि

8
SHARE

दुनियभर में तबाही मचाने वाले जीका वायरस ने भारत में भी अपनी दस्तक दे दी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने गुजरात के अहमदाबाद में तीन लोगों में जीका वायरस की पुष्टि की है। जिन तीन लोगों में जीका वायरस की पुष्टि की गई है, उनमें एक गर्भवती महिला शामिल है। इस महिला की जनवरी में जांच की गई थी। जीका वायरस से प्रभावित तीनों लोग अहमदाबाद के बापूनगर इलाके के रहने वाले हैं।
भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने भी अपनी वेबसाइट पर अहमदाबाद में जीका वायरस के तीनों मामलों की पुष्टि की है। वेबसाइट पर उपलब्ध रिपोर्ट के अनुसार, पुणे की नेशनल रेफरेंस लैबोरेटरी ने फाइनल नतीजे दिए हैं, इसमें तीनों पीडि़त आरटी-पीसीआर टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं। इससे पहले अहमदाबाद के बीजे मेडिकल कॉलेज ने भी जांच के बाद जीका वायरस की पुष्टि की थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट के अनुसार, बीजे मेडिकल कॉलेज ने 10 से 16 फरवरी 2016 के बीच 93 ब्लड सैंपल लिए थे। इनमें से तीन को जीका वायरस की पुष्टि हुई है।
जीका वायरस सबसे पहले ब्राजील में पाया गया। अब यह धीरे-धीरे अफ्रीका, अमरीका और एशिया के कई देशों में पैर पसार चुका है। जीका वायरस का नवजात बच्चों पर ज्यादा असर होता है। इस वायरस के प्रभाव के चलते बच्चों का सिर छोटा रह जाता है। उनका दिमाग भी पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाता है। वह अपनी उम्र के बच्चों से पिछड़ जाते हैं।
जीका वायरस एडीज, एजिप्टी और अन्य मच्छरों से फैलता है, ये मच्छर चिकनगुनिया और डेंगू भी फैलाते हैं। बुखार, जोड़ों में दर्द, शरीर पर लाल चकत्ते, थकान और सिर दर्द आदि जीका वायरस के लक्षण हैं।