हाइवे पर लाश को घसीट ले गई पुलिस, परिवारीजनों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा

239
SHARE

शनिवार को कच्ची शराब पीने से हुई युवक की मौत के बाद लाश रखकर गोरखपुर-लखनऊ हाईवे जाम कर रही भीड़ पर पुलिस ने जमकर लाठियां बरसाईं। पुलिस ने युवक की लाश घसीटते हुए गाड़ी में लदवाई। इस दौरान पुलिस ने मृत युवक के भाई और उसके परिवारीजनों को भी दौड़ा-दौड़ाकर पीटा।

खजनी इलाके के रहने वाला रामू भारती मजदूरी करता है। ग्रामीणों के मुताबि‍क, वो शराब का आदी था। शनिवार की सुबह 9 बजे वो मजदूरी करने के लिए घर से निकला। दोपहर 3 बजे के आसपास उसका शव नौसढ़ चौकी के पीछे झाड़ी में पानी के पास मिला। इसके बाद तेजी से शोर हो गया कि रामू भारती की कच्ची शराब पीने से मौत हो गई है।

पुलिस पर मोटी रकम लेकर कच्ची शराब बनवाने का आरोप लगाते हुए स्थानीय लोगों ने एनएच के नौसढ़ चौराहे पर शव रखकर जाम कर दिया। जाम खुलवाने के लिए पुलिस ने लाठियां चलाईं तो प्रदर्शनकारियों ने पथराव शुरू कर दिया।

लाठीचार्ज से कई राहगीरों और जाम लगाने वालों को चोट आई, तो वहीं ईंट लगने से कई पुलिसकर्मी भी चोटि‍ल हो गए। इस बीच मौका पाकर पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और घसीटते हुए गाड़ी में रखा, फि‍र पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। जाम खुलवाने के बाद पुलिस ने तिवारीपुर इलाके के बहरामपुर और बेलीपार इलाके के छपिया में दबिश देकर दो दर्जन से अधिक लोगों को अरेस्ट किया है। पुलिस बहरामपुर गांव स्थित कच्ची शराब के ठिकानों पर पीएसी बल के साथ छापेमारी कर रही है।

एसएसपी सत्यार्थ अनिरूद्ध पंकज के मुताबिक, युवक शारीरिक रूप से कमजोर था। मौत की क्या वजह है ये तो पीएम के बाद भी पता चल पाएगी। लेकिन पुलिस की जांच में जो तथ्य समाने आया है उसमें वो शौच के लिए नौसढ़ चौकी के पीछे गया था। वहीं पर उसकी मौत हो गई। वहां के रहने वाले राम नगिना साहनी द्वारा कच्ची से मौत का लोगों में भ्रम फैलाया गया। नगिना साहानी और छपिया के ग्राम प्रधान समेत 25 नामजद और 70 अज्ञात लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया गया है। ग्राम प्रधान समेत 18 लोगों को पुलिस ने अब तक गिरफ्तार कर लिया है।