CM योगी ने MP-MLA की शिकायत पर कहा- आपके लिए अलग से अप्वाइंट होगा अफसर

148
SHARE

यूपी में बीजेपी सरकार को सत्ता में आए हुए 100 दिन पूरे होने वाले है। 25 जून को सरकार अपने कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड रिलीज करेगी। गुरूवार को हुई समन्वय बैठक में संगठन के पदाधिकारियो में भी रोष दिखा। बैठक से जुड़े सूत्रों ने बताया कि सीएम योगी से पदाधिकारियों में प्रदेश, क्षेत्रीय और बागपत जैसे कई जिलाध्यक्षों ने मीटिंग में कहा कि हमारे द्वारा लिखे जा रहे लेटर को किनारे कर दिया जा रहा हैं। साथ ही पदाधिकारियों की शिकायतों को सुनने के बाद सीएम ने कहा- आपके लिए एक अलग जिम्मेदार अधिकारी नियुक्त किया जाएगा। जो आपके आने वाले पत्रों की गंभीरता के अनुसार काम करेगा। ये मंत्री तो बात तक नहीं सुनती…

– जिलाध्यक्ष और मंत्रियो के बीच हो रही बैठक में एक जिलाअध्यक्ष ने कहा कि मेरे घर का एक मामला है 3 बार बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल से मिलने गया लेकिन मिल नहीं सका।
– इतना ही नहीं हमने अपने मामले के लिए कैबिनेट मंत्री धर्मपाल जी से पत्र और सिफारिश कराई। उनके बाद भी मेरी नहीं सुनी गई। इसके बाद हमने अपनी बात प्रदेश अध्यक्ष और डिप्टी सीएम से कहा लेकिन अभी तक कोई आर्डर न हुआ। ये हाल हैं।

– सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ भाजपा के सभी जिलाअध्यक्ष व पदाधिकारियों की बैठक में सभी ने अपनी-अपनी बात रखी। मीटिंग में संगठन के पदाधिकारियों की अनदेखी और उनको सरकार में तबज्जो न मिलने पर नाखुश दिखे।
– सीएम ने पदाधिकारियों की शिकायतों को सुनने के बाद कहा- आपके लिए एक अलग जिम्मेदार अधिकारी नियुक्त किया जाएगा। जो आपके आने वाले पत्रों की गंभीरता के अनुसार काम करेगा।

– मीटिंग में मौजूद एमएलए ने अपनी बात रखते हुए कहा कि न अपने मंत्री हम लोगों की बात सुनते है न कोई अधिकारी। क्षेत्र की समस्या लेकर अगर मंत्री के पास जाइए तो वे टाल देते हैं और उनसे मिलने के लिए घंटो इंतज़ार करना पड़ता हैं।
– एक एमएलए ने यहां तक कह दिया कि 100 दिन होने को है अभी तक विधायक निवास नहीं मिल पाया। अधिकारियों को कोई भी पैरवी करो किसी की समस्या बताओ वे भी गंभीरता से नहीं लेते हैं। ये सब हम सबके साथ हो रहा है।
दूसरे दल के मंत्री सुनते है कर करते पैरवी
– संगठन के कई पदाधिकारी और जिलाध्यक्ष ने कहा- मूल भाजपा के मंत्री तो नहीं सुनते लेकिन दूसरे दल से आए मंत्री बने वो सुनते भी है और कार्रवाई भी करते हैं। मीटिंग में प्रो रीता बहुगुणा जोशी, स्वामीप्रसाद मौर्या और ब्रजेश पाठक जैसे दूसरे दल के मंत्रियो की पदाधिकारियों व एमएलए ने तारीफ की।
– मीटिंग से जुड़े सूत्रों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि संगठन के लोगों की बात उनके ही सरकार में नहीं सुनी जा रही है। एमएलए का कहना था कि किसी भी विभाग का अधिकारी सुन नहीं रहा है। कैसे जनता की समस्याओं का हल किया जाए।

source-DB