योगी राज: किसानों का बिजली बिल 180 से 600 रुपए

397
SHARE

योगी सरकार किसानों के बिजली बिल को बढ़ाने की तैयारी में है। इसमें यूपी पाॅवर रेगुलरिटी अथाॅरिटी के प्रस्ताव विद्युत नियामक आयोग को भेज दिया है। बिजली 350 फीसद तक महंगी हो गई है। अभी प्रतिमाह 180 रुपए प्रति यूनिट की दर की बजाय अब किसानों को 600 रुपए प्रतिमाह बिल देना होगा।

बिजली विभाग अपने कार्मिकों से बिल की वसूली तीन हिस्सों में बांट कर करता है। एक हिस्सा फिक्स्ड चार्ज, दूसरा हिस्सा फिक्स्ड एनर्जी चार्ज का और तीसरा हिस्सा उनके घरों में इस्तेमाल होने वाले एसी के बिल का रहता है। इन तीनों हिस्सों में दरें बढ़ा दी गई हैैं। चीफ इंजीनियर स्तर एक व दो, महाप्रबंधक व इससे ऊपर के अधिकारियों को अब तक फिक्स्ड चार्ज के तौर पर 600 रुपये और फिक्स्ड एनर्जी चार्ज के तौर पर 810 रुपये प्रतिमाह देने पड़ रहे थे, जिसे बढ़ाकर अब क्रमश: 960 व 1300 रुपये कर दिया गया है। इसी तरह अधीक्षण अभियंता व डीजीएम स्तर के अधिकारी पहले इन दोनों मदों में 550 व 700 रुपये दे रहे थे। उन्हें अब 800 व 1125 रुपये देने होंगे। अधिशासी अभियंता 300 व 595 रुपये अदा कर रहे थे, जिसे बढ़ाकर अब 480 व 950 रुपये कर दिया गया है।

सहायक अभियंताओं के लिए यह दरें 280 व 560 रुपये से बढ़ाकर 450 व 900 रुपये की गई हैं, जबकि जूनियर इंजीनियरों को इन मदों में 260 व 425 रुपये की बजाए 410 व 680 रुपये का भुगतान करना होगा। इसी तरह तृतीय श्रेणी कर्मचारियों का बिल भुगतान 190 व 225 रुपये के स्थान पर 300 व 360 रुपये हो जाएगा, जबकि चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को फिक्स्ड चार्ज के लिए 160 की बजाए 260 रुपये और फिक्स्ड एनर्जी चार्ज के तौर पर अब 180 की बजाए 290 रुपये अदा करने होंगे। प्रत्येक एयरकंडीशनर के लिए भी 600 रुपये प्रतिमाह शुल्क को भी बढ़ाकर 875 रुपये कर दिया गया है।

शादी-बारात व मेला आदि में दुकानों के लिए अस्थाई कनेक्शन की दरों में भी इजाफे का प्रस्ताव है। शादी-बारात आदि के कनेक्शन के लिए अब जहां 3500 को बढ़ाकर 4250 रुपये किया जा रहा है, वहीं दुकानों के कनेक्शन के लिए प्रतिदिन का खर्च 300 से बढ़ाकर 500 रुपये और घर बनाने के लिए सात रुपये प्रति यूनिट की दर को बढ़ाकर 7.50 रुपये प्रस्तावित किया गया है। शादी व अन्य समारोहों के लिए यह दर 7.95 रुपये से बढ़ाकर 8.50 रुपये की जा रही है।