यमुना एक्सप्रेसवे के 17 प्रोजेक्ट रद्द

17
SHARE

यमुना एक्सप्रेसवे पर बनने वाले 17 प्रोजेक्ट यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रि‍यल डेवलपमेंट अथॉरिटी (वाईईआईडीए) ने रद्द कर दिए हैं। जिन छह बिल्डर के 17 प्रोजेक्ट रद्द किये गए है, प्राधिकरण का कहना है कि बिल्डर बिना नक्शा मंजूर कराए अवैध तरीके से इन प्रोजेक्ट का निर्माण करा रहे थे।

इन प्रोजेक्ट्स को सपा-बसपा के शासन में मंजूरी मिली थी। बिल्डरों को अब नए सिरे से बिल्डिंग प्लान का नक्शा मंजूर करने के लिए आवेदन करना होगा। कुछ बिल्डरों ने तो बिना निर्माण कार्य के फ्लैट बुक कर रखा था। गौरतलब है कि जेपी इंफ्राटेक को यमुना एक्सप्रेस-वे का निर्माण करने के बदले प्रदेश सरकार से हुए समझौते के तहत 500 हेक्टेयर जमीन एक्सप्रेस-वे के किनारे दिया गया था।

प्राधिकरण के इस कदम से इन प्रोजेक्ट में पैस लगाने वाले सैकड़ों होम बायर्स को तगड़ा झटका लगा है। 15 अप्रैल को भी यमुना एक्सप्रेसवे प्राधिकरण ने जेपी इंफ्राटेक के 5 हाउसिंग प्रोजेक्ट्स रद्द किए थे जो स्पोर्ट सिटी ईस्ट में स्थित हैं क्योंकि डेवलपर ने इन्हें बिना बिल्डिंग प्लान अप्रूव हुए ही बेच दिया था।

17 हाउसिंग प्रोजक्टमें में से 12 अकेले जेपी ग्रुप के, 2 गौरसन्स के थे और एक-एक अजनारा, ओरिस व वीजीए डेवलपर्स के थे। जेपी इंफ्राटेक के प्रोजेक्ट यमुना एक्सप्रेसवे के सेक्टर 19, 25 और 22बी में स्थित थे।