बाइक पर इयरफोन लगाकर क्यों चलते हैं लोग: CM

176
SHARE

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सड़क दुर्घटनाओं के लिए शिक्षा पद्धति की ‘विसंगतियों’ को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि सड़क दुर्घटनाएं रोकने के लिए व्यापक जन जाग्रति की आवश्यकता है. योगी ने विधानसभा में गृह और सामान्य प्रशासन विभाग के बजट पर चर्चा के अंत में कहा, ‘शिक्षा पद्धति की विसंगति है कि पाठयक्रम से इन चीजों को हटा दिया गया. लोगों में जो ट्रैफिक सेंस (यातायात को लेकर भाव) होना चाहिए, जो सिविक सेंस होना चाहिए, वह नहीं है.’ उन्होंने इस संबंध में व्यापक जन जागरण की आवश्यकता पर बल देते हुए सदन में मौजूद सदस्यों से कहा, ‘अगर हम नहीं करेंगे तो कौन करेगा. वे नौजवान हैं, उन्हें हम नहीं बताएंगे तो कौन बताएगा. हेलमेट पहनकर दोपहिया वाहन चलाने, कान में इयरफोन नहीं लगाने तथा चार पहिया वाहनों से हूटर और काली फिल्म हटाने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने सदस्यों से कहा कि गाडियों से हूटर उतारे जाएं और आग्रह करके पुलिस से हूटर उतरवाये जाएं. गाड़ियों के शीशों पर लगी काली फिल्म भी उतारी जाए.

उन्होंने कहा कि दोपहिया वाहन चालकों के लिए हेलमेट पहनना अनिवार्य बनाया जाए. बाइक पर जब बैठे हों या रेल पटरी पार कर रहे हों तो कान में इयरफोन लोग ना लगायें क्योंकि रेल क्रासिंग पर होने वाली दुर्घटनाओं का प्रमुख कारण कान में इयरफोन लगाना है.

योगी ने कहा, ‘बाइक पर लोग इयरफोन लगाकर चलते हैं. पीछे से कौन हार्न बजा रहा है, सुनायी नहीं देता. जो इयरफोन में सुन रहे हैं, वही सुनायी देता है. इससे झगडा और विवाद होता है. बड़ी घटनाएं होती हैं. उन्होंने सदस्यों से कहा कि आप देखते होंगे कि बहुत बार अपनी साइड पर चलने के बावजूद बीच में आकर कोई सड़क पार करता है. अगर आप स्वयं या ड्राइवर सचेत ना हो तो दुर्घटना हो जाएगी. लोगों को इस बारे में बताना होगा. योगी ने अपील की कि दोपहिया वाहन चालकों से कहा जाए कि वे अनिवार्य रूप से हेलमेट पहनें. वाहन चलाते समय इयरफोन ना लगाएं. मोटरसाइकिल से स्टंट करने वालों पर लगाम कसने की आवश्यकता बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, ऐसे लोग स्वयं तो मरते ही हैं, दूसरों को भी मारते हैं. हम इस पर सघन अभियान चला रहे हैं.