अमेरिका ने बोला सर्जिकल स्ट्राइक पर हमारी नजर- डोभाल को किया फ़ोन, जताया समर्थन

10
SHARE

पाक अधिकृत कश्मीर में बुधवार देर रात हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद जहां एक ओर पाकिस्तान हैरान-परेशान है वहीं सीमा के दोनों तरफ ही सेना की बढ़ती हलचल को साफतौर पर महसूस किया जा सकता है। अमेरिका भी भारत और पाकिस्तान की मौजूदा स्थिति पर नजर रखेे हुए है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किरबी ने कहा कि अमेरिका वहां से आने वाली सभी रिपाेर्ट और स्थिति पर बारिकी से नजर रखे हुए है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका पहले से ही इस क्षेत्र में मौजूद आतंकवाद पर चिंता जाहिर करता रहा है। अमेरिका ने हमेशा से ही आतंकवाद के बढ़ते खतरे को महसूस किया है। उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद को जानते और पहचानते हैं। उन्होंने कहा कि यह बेहद जरूरी है कि पीओके और पूरे पाकिस्तान में मौजूद आतंकवादी ठिकानों जिसमें लश्कर और जैश भी शामिल है, को खत्म किया जाए। वहीं पीओके में हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन कैरी भारत के विदेश मंत्री से 27 सितंबर को बात कर उड़ी हमले की जमकर निंदा की थी।

इस दौरान उन्होंने आतंकवाद के हर रूप की जमकर आलोचना की थी। इसके साथ ही सीमा पर बढ़ते तनाव पर भी चिंता जताई थी। किरबी ने कहा कि वह भारत की सर्जिकल स्ट्राइक पर ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहते हैं, लेकिन यह साफ है कि इससे दोनों ही देशों के बीच तनाव और बढ़ेगा। उन्होंने भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव को दूर करने के लिए दोनों को ही बातचीत का सहारा लेने की भी सलाह दी है।

दूसरी ओर संयुक्त राष्ट्र प्रवक्ता ने कहा कि यूएन महासचिव ने भारत सरकार को फोन कर हर मसले और तनाव को दूर करने के लिए बातचीत करने की अपील की हैै। यूएन मिलिट्री ऑब्जरवर ग्रुप के मुताबिक वह भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्धविराम उल्लंघन से अच्छी तरह से परिचित है, इसके साथ ही वह दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव से भी अनभिज्ञ नहीं है।