विजय सिन्हा बीबीडी बैडमिंटन अकादमी में यौन शोषण के मामले में गिरफ्तार

18
SHARE
आज पुलिस ने राजधानी की विख्यात बाबू बनारसी दास बैडमिंटन अकादमी में यौन शोषण के मामले में लंबे समय से फरार चल रहे अकादमी के पूर्व सचिव डॉ. विजय सिन्हा को उनके आवास से गिरफ्तार कर लिया है। पूर्व सचिव विजय सिन्हा पर BBD UP बैडमिंटन अकादमी में खिलाड़ियों के शोषण का आरोप लगा है। इस मामले में विजय सिन्हा का पुत्र निशांत सिन्हा अभी भी फरार है।
पुलिस ने तीन दिन पहले ही इनके आवास रीवर बैंक कालोनी में कुर्की का नोटिस चस्पा करने के साथ ही डुगडुगी भी पिटवाई थी। पुलिस को भनक लगी कि आज विजय सिन्हा घर आने वाला है। इसकी सक्रियता से विजय सिन्हा पुलिस की गिरफ्त में आ गया है।
बीबीडी यूपी बैडमिंटन अकादमी में नाबालिग खिलाडिय़ों को बंधक बनाकर यौन शोषण व घोटले के आरोपी विजय सिन्हा व उनके बेटे निशांत के घर गोमती नगर पुलिस ने छापेमारी की। दोनों आरोपी अभी तक फरार हैं। पुलिस ने डॉ. विजय सिन्हा के पत्नी से पूछताछ भी की, लेकिन उनकी लोकेशन का कुछ पता नहीं चला।
गोमती नगर थाना की पुलिस आरोपी डा. विजय सिन्हा और उनके बेटे निशांत के वजीरगंज रिवर बैंक कालोनी में पुलिस टीम के साथ दबिश दी गई। दोनों आरोपी मौके पर मौजूद नहीं थे। वहीं पुलिस अकादमी के सभी कर्मचारियों से भी पूछताछ कर रही है ताकि वहां चल रहे खेल का पता चल सके। इंस्पेक्टर ने बताया कि आरोपी निशांत पर संगीन आरोप हैं।
उनके खिलाफ गोमती नगर थाने में सुरक्षा अधिकारी जंग बहादुर ने केस दर्ज कराया है। खिलाडियों का यौन शोषण करने का आरोप है। वह महिला खिलाड़ी अदर स्टेट में अकादमी की तरह से खेलने गई हुई थी। सीओ सत्यसेन यादव गोमती नगर का कहना था कि महिला खिलाडिय़ों के बयान के बाद ही आरोपी पिता पुत्र की गिरफ्तारी की जाएगी।
अकादमी के चेयरमैन अखिलेश दास गुप्ता से लेकर पूर्व सचिव डॉ विजय सिन्हा व अकादमी से संबंधित अन्य पदाधिकारी एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे हैं अकादमी लाबी की तरह काम कर रही है, जबकि पिछले 8 सालों से अकामदी में गैर कानूनी तरीके से क्रिया कलाप हो रहे है।
शादी मैरिज की बुकिंग से लेकर फ्लॉवर शॉप तक चलाई जा रही थी, लेकिन जब मामला विवादित हुआ तो हर कोई एक दूसरे पर पल्ला झाड़ रहा है। फिलहाल पुलिस का कहना था कि अकादमी के आपसी विवाद से उन्हें कोई सरोकार नहीं लेकिन यौन शोषण और छेड़छाड़ की शिकायत पर पुलिस तफ्तीश कर रही है।