उत्तर प्रदेश में नोटबंदी से 28 लोगों की मौत

5
SHARE
 समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नोटबंदी को लेकर जनता के बारे में सोचने की सलाह दी है। और कहा कि नोट पर प्रतिबंध से जनता परेशान है।1000 और 500 के नोटबंदी तथा नकदी संकट के चलते उत्तर प्रदेश में अब तक 28 लोगों की जान जा चुकी है। यह सिलसिला लगातार जारी है। बैंक और एटीम में उसी तरह लाइनें लगीं हैं। उन्होंने कहा कि सपा संकट की इस घड़ी में प्रदेश की जनता के साथ है। उसे किसी भी तरह निराश नहीं होना चाहिए। इससे पहले उन्नाव में विधायक उदयराज यादव के यहां एक मांगलिक समारोह में शिवपाल ने कहा कि मोदी के फैसले से सारा देश परेशान है। साथ ही सहकारी बैंकों में एक हजार और पांच सौ का नोट लेना बंद करना भेदभाव पूर्ण फैसला है।

शिवपाल यादव ने कहा नोट पर प्रतिबंध लगने से जनता परेशान है। गरीब व्यापारी सबसे अधिक समस्या से जूझ रहा है, किसानों का बुरा हाल है और बेरोजगारी बढ़ रही है। 50 दिनों में तो परेशान जनता भुखमरी का शिकार होने लगेगी। गरीबों को कोई समस्या न हो इसकी व्यवस्था करके ही उन्हें इसका फैसला लेना चाहिए था। सपा सबसे पहले लोहियाजी के समय से कालेधन के खिलाफ है और रहेगी लेकिन मोदी ने इसे जिस तरह से किया उससे देश की जनता दुखी है। कोऑपरेटिव बैंक पर प्रतिबंध लगाया गया। इससे किसानों को समस्या हो रही है। मोदी किसी प्रदेश के नहीं बल्कि देश के प्रधानमंत्री हैं। मोदी का फैसला देश की जनता का अपमान है। लोग सुबह से घंटों लाइन में खड़े हो रहे हैं, कामकाज सब बंद है। उन्हें पहले से करेंसी का इंतजाम करना चाहिए था। उन्होंने कहा कि मोदी 50 दिन इंतजार करने की बात कह रहे हैं लेकिन इन 50 दिनों में देश में तमाम लोग भुखमरी से मर जाएंगे। वहीं खुलकर विरोध में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री की तरह से न आने के सवाल पर कहा कि सपा कालेधन के विरोध में नहीं जनता को हो रही परेशानी के विरोध में है। जब चाहेगी तब विरोध करेगी। मोदी की बूढ़ी मां को लाइन में लगना पड़ रहा है इससे ज्यादा कष्टकारक और क्या होगा। वैसे, इस कार्यक्रम में सीएम को भी शिरकत करना था लेकिन किन्हीं कारणों से वह स्थगित कर दिया गया|