ट्यूबवेल पेपर लीक मामले में 5 परीक्षार्थी समेत 18 गिरफ्तार, जिनमें 5 परीक्षार्थी

150
SHARE

उत्तर प्रदेश में आज होने वाली ट्यूबवेल ऑपरेटर परीक्षा का हिंदी का पेपर लीक हो गया है. आज सुबह 10 बजे से यूपी के 394 केन्द्रों पर परीक्षा होनी थी. पेपर लीक होने के बाद यूपी अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने ये परीक्षा रद्द कर दी है. बता दें कि पेपर लीक मामले में मेरठ से 18 लोग गिरफ़्तार किए गए हैं,जिनमें 5 परीक्षार्थी थे. इनके पास से 15 लाख रूपये और हैंड रिटेन आंसर सीट भी बरामद की गई है.  लेकिन अब तक ये नहीं पता चल पाया है कि परीक्षा में पेपर कहां से और कैसे लीक हुआ.

बता दें कि कल शाम से पेपर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे थे इसके बाद जांच की गयी और पाया गया कि ये वही पर्चा है. फिलहाल आगे परीक्षा की तारीख को लेकर अभी तक कोई जानकारी नहीं दी गई है. बता दें कि पहले भी कई परीक्षा के पेपर लीक हो चुके हैं.

ट्यूबवेल ऑपरेटर की परीक्षा के उत्तर प्रदेश के 8 जिलों में हो रही है, इसके लिए दो लाख से ज्यादा छात्रों ने आवेदन किया है. इससे पहले उत्तर प्रदेश में जूनियर इंजीनियर की परीक्षा का पेपर लीक हो गया था, नलकूप चालकों की परीक्षा का पेपर लीक होने के बाद विपक्ष योगी सरकार पर हमलावर है.समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता जूही सिंह ने योगी आदित्यनाथ को ट्विटर पर टैग कर लिखा कि अयोग्य हमारे उत्तरप्रदेश के युवा नहीं आपकी सरकार है. जूही सिंह ने ट्वीट किया, ”न साफ नियत न काबिलियत योगी आदित्यनाथ अयोग्य हमारे उत्तरप्रदेश के युवा नहीं आपकी सरकार है. बता दें एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए यूपी के सीएम योगी ने कहा था कि उत्तर प्रेदशे में नौकरियों की कमी नहीं है, योग्य उम्मीदवार ही नहीं मिल रहे.’