उपेंद्र कुशवाहा ने मध्य प्रदेश में उम्मीद उतार बीजेपी को दी चेतावनी

12
SHARE

बिहार में बीजेपी और जेडीयू के बीच कुछ दिन पहले 50-50 सीट फॉर्मूले पर सहमति के एनडीए की सहयोगी RLSP के चीफ उपेंद्र कुशवाहा अपनी सीटों के लिए खासे सतर्क हो गए हैं। उन्होंने आज 30 अक्टूबर को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके ऐलान किया है कि सीट बंटवारे पर अभी अंतिम फैसला नहीं हुआ है और इसपर अभी बातचीत चल रही है। इस बीच बीजेपी पर दबाव बनाने की रणनीति के तहत कुशवाहा ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपनी पार्टी के 66 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा जरूर कर दी है।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि उनकी पार्टी का बीजेपी के साथ गठबंधन मध्य प्रदेश के लिए नहीं हुआ है और तमाम दूसरी पार्टियां भी अलग राज्यों में एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ती रहती हैं ऐसे में इसमें कुछ भी गलत नहीं। मध्य प्रदेश के निमाड़-मालवा अंचल में कुशवाहा वोटरों की संख्या अच्छी-खासी है और इस क्षेत्र की लगभग 65 सीटों पर वह असर डाल सकते हैं। हालांकि उन्होंने एक बार फिर से दोहराया कि वो और उनकी पार्टी नरेंद्र मोदी को 2019 में भी देश का प्रधानमंत्री बनाने के लिए काम करेगी।

कुशवाहा का पूरा जोर इसी बात पर रहा कि वह एनडीए से अलग नहीं हो रहे हैं लेकिन मध्य प्रदेश में उम्मीदवार उतार कर उन्होंने संदेश भी दे दिया है कि बिहार में सम्मानजनक सीटें नहीं मिलीं तो वो बड़ा फैसला लेने से भी पीछे नहीं हटेंगे।

बताते चलें कि बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से पिछले चुनाव में कुशवाहा की पार्टी ने 3 सीटें जीती थीं। सूत्रों के हवाले से खबरें आ रही हैं कि बीजेपी कुशवाहा को 2 सीटें देने को तैयार है, लेकिन कुशवाहा इतने पर तैयार नहीं हैं। देखना होगा कि उनकी एमपी के जरिए दवाब की रणनीति क्या रंग दिखाती है।