यूपी बोर्ड की हाईस्कूल-इंटर परीक्षाएं, 16 फरवरी से शुरू होकर 20 मार्च 2017 तक चलेंगी

72
SHARE

यूपी बोर्ड परीक्षा-2017 का कार्यक्रम आज जारी कर दिया गया है। परीक्षाएं 16 फरवरी से शुरू होकर 20 मार्च 2017 तक चलेंगी। हाईस्कूल की 15 दिन व इंटरमीडिएट की 25 दिन तक परीक्षाएं चलेंगी। उल्लेखनीय है कि पिछले साल यूपी बोर्ड परीक्षा होली के त्योहार के पहले खत्म हो गई थी, वहीं इस बार होली का त्योहार इंटर की परीक्षा के बीच पड़ेगा, इस त्योहार में अवकाश होने के कारण परीक्षा की कुल अवधि बढ़ गई है। अन्यथा हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा के दिन पिछले वर्ष के समान ही हैं|

यूपी बोर्ड सभापति से अनुमोदन के बाद परिषद सचिव शैल यादव ने तारीखों का एलान कर दिया है। तारीखवार परीक्षा कार्यक्रम गजट होने के बाद अगले सप्ताह जारी होगा। माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड का परीक्षा 2017 की परीक्षाएं दो पालियों में ही होंगी। पहली पाली सुबह 7.30 से 10.45 तक एवं दूसरी पाली अपरान्ह 2.00 से शाम 5.15 तक चलेगी। पिछले वर्ष परीक्षा 18 फरवरी को शुरू होकर 21 मार्च को पूरी हुई थी, जबकि इस बार दो दिन पहले 16 फरवरी से शुरू होकर 20 मार्च तक चलेंगी। इस बार की हाईस्कूल की परीक्षा के लिए 34 लाख चार हजार 471 एवं इंटरमीडिएट में 26 लाख 24 हजार 681 समेत कुल 60 लाख 29 हजार 152 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं, जो पिछले साल की अपेक्षा सात लाख 63 हजार 882 कम हैं। यही नहीं हाईस्कूल की परीक्षाएं 16 फरवरी से शुरू होकर 6 मार्च को खत्म हो जाएंगी, जबकि इंटर की परीक्षा 16 फरवरी से शुरू होकर 20 मार्च तक चलेंगी। खास बात यह है कि हाईस्कूल व इंटर की परीक्षाओं का श्रीगणेश इस बार भी हिंदी के प्रश्नपत्र से ही हो रहा है और पिछले साल की तरह ही 2017 का भी परीक्षा कार्यक्रम बना है। परिषद के सभापति अमरनाथ वर्मा के अनुमोदन के बाद अब उसे गजट करने के लिए भेजा गया है। सचिव ने बताया कि विस्तृत परीक्षा कार्यक्रम अगले सप्ताह घोषित कर दिया जाएगा। कार्यक्रम को परिषद की वेबसाइट पर भी देखा जा सकेगा|

 

सचिव ने बताया कि इस बार परीक्षा केंद्र बनाने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। अब तक प्रदेश भर में सत्तर फीसदी से अधिक परीक्षा केंद्रों का निर्धारण हो चुका है, बाकी जल्द ही तय हो जाएंगे। माना जा रहा है कि इसी माह सभी केंद्र तय हो जाएंगे। साथ ही परीक्षा के लिए 80 फीसद उत्तर पुस्तिकाओं की छपाई राजकीय मुद्रणालयों पूरी हो चुकी है, जिन्हें परीक्षा केंद्रों के लिए भेजा जा रहा है|

 

सचिव ने बताया कि यूपी बोर्ड परीक्षा में नकल पर अंकुश लगाने के लिए इस बार भी प्रदेश के 31 जिलों को संवेदनशील घोषित किया गया है। इसमें शाहजहांपुर, मुरादाबाद, बदायूं, संभल, हरदोई, गोंडा, अंबेडकर नगर, सुल्तानपुर, संत कबीर नगर, सिद्धार्थ नगर, कुशीनगर, आगरा, अलीगढ़, मथुरा, हाथरस, एटा, मैनपुरी, फिरोजाबाद, कासगंज, आजमगढ़, जौनपुर, इलाहाबाद, कौशांबी, कानपुर नगर, कानपुर देहात, फतेहपुर, चित्रकूट, बलिया, देवरिया, भदोही व गाजीपुर शामिल है। इन सभी जनपदों की उत्तर पुस्तिकाओं की कोडिंग कराई जा रही है। इससे कापियों की अदला-बदली होने की संभावना पर विराम लग जाएगा|