2018 तक अयोध्या में निश्चित रूप से बनेगा राम मंदिर : उमा भारती

63
SHARE

अपने आपको धन्य मानती हूं कि अयोध्या में बाबरी ढांचा गिराने के दौरान हजारों भजपा कार्यकर्ता और रामसेवकों के साथ मैं वहां मौजूद थी। मुसे फ्रक है कि मेरा नाम इस मामले पर आया है। मैं और मेरे साथ करोड़ों भारत के लोग भगवान राम के जन्मस्थल के पास एक भव्य मंदिर का निर्माण देखना चाहते हैं, लेकिन कुछ चपालूसों के चलते यह दो समुदाय के बीच बाट दिया गया। मेरी तमन्ना है कि दूसरे समुदाय के लोग आगे आएं और भगवान राम के मंदिर के निर्माण में योगदान दें। यह बात मंगलवार को सियालदह राजधानी एक्सप्रेस से कानपुर सेंट्रल पर उतरने के बाद लखनऊ रवाना होने से पहले केंद्रीय जल संसाधन एवं नदी विकास मंत्री उमा भारती ने कही। उमा भारती ने कहा कि हमारे खिलाफ सीबीआई कोर्ट में मामला चलाया जाएगा, जिस पर मुझे कोई खेद नहीं है। राम मंदिर के निर्माण के लिए अगर मुझे फांसी की सजा भी मिल जाए तो मैं हंसी-हंसी उसे स्वीकार कर लूंगी।

उमा भारती ने कहा कि मुगल शासक ने भगवान राम का मंदिर गिराकर बाबरी मस्जिद का निर्माण करवाया था, जिसके पुख्ता प्रमाण मिले हैं। बावजूद मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है और हमें पूरा विश्वास है कि न्यायालय जल्द ही अयोध्या में भव्य मंदिर के निर्माण का आदेश दे देगी। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सीबीआई एक नहीं, हजारों मुकदमे दर्ज करा दे, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं सन्यासी हूं और बचपन से भगवान रात के मंदिर निर्माण के लिए आंदोलन में शामिल होती रही हूं। उमा ने कहा कि केंद्र में मोदी जी और यूपी में योगी जी हैं और हमें उम्मीद है कि 2018 तक अयोध्या में अपने जन्मस्थल पर भगवान राम जरूर विराजेंगे।
कानपुर का एक रामसेवक नहीं रहा
उमा भारती ने कहा कि भगवान राम मंदिर के आंदोलन में कानपुर का अहम योगदान रहा है। विवादित ढांचा गिराए जाने के वक्त हमारे गंगा के किनारे वाले हजारों लोग अयोध्या पहुंचे थे। उन्हीं में से हमारे बड़े भाई विवेक शुक्ला 6 दिसंबर को अयोध्या में मेरे साथ मौजूद थे, लेकिन आज वो हमारे बीच नहीं है। विवेक भईया अक्सर मुझसे पूछा करते थे कि उमा भगवान राम के मंदिर का निर्माण कब होगा? जिस पर हम उनसे कहते थे कि भईया वह दिन जरूर आएगा, हम और आप मिलकर भगवान की आरती करेंगे। आज विवेक भईया नहीं रहे, लेकिन उनके और उनके जैसे करोड़ों राम भक्तों का सपना है कि अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर बने।