आज यूपी में खराब कानून-व्यवस्था पर व्यापारियों की हड़ताल

10
SHARE

भाजपा की सरकार बनने के बाद भी उत्तर प्रदेश की ध्वस्त कानून व्यवस्था पटरी पर न आने के कारण लोग बेहद परेशान हैं। इसी को लेकर उत्तर प्रदेश के सभी सर्राफा व्यापारियों ने मोर्चा खोल दिया है। आज सर्राफा व्यापारियों ने प्रदेश भर में हड़ताल का एलान किया है।

मथुरा में सर्राफा व्यापारी से बड़ी लूट और हत्या काण्ड के बाद प्रदेश भर के सर्राफा व्यापारियों में रोष है। उत्तर प्रदेश में बिगड़ती कानून-व्यवस्था के खिलाफ आज सर्राफा व्यापारियों ने बड़े आंदोलन का ऐलान किया है। सर्राफा व्यापारियों की हड़ताल से करोड़ों रूपये का कारोबार प्रभावित होने का अनुमान है। प्रदेश के करीब 3000 सर्राफा व्यापारी अपनी दुकान बंद रखेंगे। प्रदेश में सभी सर्राफा व्यापारी हड़ताल पर रहेंगे। इसे साथ ही राजधानी लखनऊ के जीपीओ पार्क के सामने महात्मा गांधी की प्रतिमा के नीचे सर्राफा व्यापारी आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर प्रदर्शन भी करेंगे।

लखनऊ में चौक सर्राफा एसोसिएशन के अध्यक्ष कैलाश चंद्र जैन के नेतृत्व में हड़ताल को बुलाया गया है। जैन ने बताया कि लखनऊ के जीपीओ पार्क में सर्राफा व्यापारी आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर प्रदर्शन करेंगे। राजधानी में करीब 2200 छोटे बड़े सर्राफा दुकानदार हड़ताल पर रहेंगे इससे करीब 12 करोड़ रुपये का कारोबार प्रभावित होगा।

आदर्श व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष संजय गुप्ता ने बताया कि वह भी हड़ताल का समर्थन कर रहे हैं और कल मृतकों के परिवार से मिलने मथुरा जायेंगे। उधर मथुरा में दो व्यापारियों की हत्या के बाद पुलिस ने पैदल मार्च कर शांति बहाली का सन्देश देने की कोशिश की है।

गौरतलब है कि मथुरा में सोमवार देर शाम होली गेट के अंदर बेहद संकरी कोयला गली में स्थित मयंक चेन्स के ज्वेलरी शो-रूम में घुसकर दो मोटरसाइकिलों पर सवार छह नकाबपोश बदमाशों ने जमकर 10 मिनट तक तांडव मचाया। मुंह में रुमाल बांधे और हेलमेट लगाये असलाह धारी बदमाशों ने करीब आठ किलो सोना लूट लिया था।

15 मई की रात सर्राफा कारोबारियों मेघ अग्रवाल और विकास अग्रवाल की हत्या और 4 करोड़ रुपए की डकैती का मामला सामने आया था। अपराधियों ने दुकान में घुसकर गोली मारी थी। उनकी करतूत सीसीटीवी में रिकॉर्ड हो गई थी। मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इसी मामले को लेकर विपक्ष ने विधानसभा में कानून -व्यवस्था का मामला उठाया था।