बिहार बोर्ड के रिजल्ट से भयभीत था, डर था यूपी में भी ऐसा न हो : CM योगी

26
SHARE

आज योगी सरकार ने हाईस्कूल व इंटरमीडिएट पास 147 मेधावियों को एक-एक लाख रुपए और आईपैड देकर सम्मानित किया। गुरुवार को लोकभवन में आयोजित समारोह में सीएम योगी ने मेधावियों और उनके अभिभावकों को सम्मानित किया। इस दौरान सीएम ने कहा- ”उत्तर प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा बोर्ड का परिणाम आने वाला था तो मैं भयभीत था। इससे पहले बिहार बोर्ड का रिजल्ट आया था। मुझे भय था बिहार की पुनरावृति यहां न हो।”

योगी ने कहा- ”अगर आप सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ रहे हैं तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। आपको जो आज सफलता मिली है, उसमें आपके अभिभावकों ने मेहनत की है, शिक्षकों ने मेहनत की है। उत्तर प्रदेश इस देश को एक प्रतिनिधित्व देने की क्षमता रखता है। भारत के विकास का रास्त यूपी से गुजरता है। उत्तर प्रदेश के नौजवानों को जब अवसर मिला है उसने बुलंदियों का झंड़ा गाड़ा है। कोई अयोग्य नहीं हो सकता।”

योगी ने कहा- ”आप अपने पुरुषार्थ से अपने भाग्य को बदल सकते हैं। पलायन का रास्ता जीवन में मत अपनाइए। जीवन संघर्ष का नाम है, जीवन परिश्रम का नाम है, जीवन पुरुषार्थ का नाम है। देश के अंदर कुछ राज्यों में बालिकाओं की संख्या बालकों से कम हो रही है, ये चिंता का विषय है। आज हम 147 मेधावियों का सम्मान कर रहे इनमें से 99 केवल बालिकाएं हैं। अब देखिए बालिकाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं, उसके बाद भी भ्रूण हत्या हो रही है।बालिकाओं की इतनी संख्या देख कर मुझे तो अच्छा लगता है कि बालिकाएं आगे बढ़ रही हैं। बालिकाओं ने हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। खूब पढ़ा-खूब बढ़ो जीवन का मूल मंत्र हो सकता है।”

मेधावी छात्र-छात्राओं की मां को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। वहीं, पिता को पगड़ी पहनाई गई। छात्र-छात्राओं को पटुका (गले में डालने वाला एक वस्त्र) पहना कर आईपैड, एक-एक लाख रुपए और प्रमाणपत्र सौंपा गया।