देश का रक्षा मंत्री ही कमजोर तथा कायर होगा तो फिर सेना भला कैसे दुश्मनों का मुकाबला करेगी, मुलायम सिंह यादव

36
SHARE

आज समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने एक कार्यक्रम में आगरा में कहा कि जब देश का रक्षा मंत्री ही कमजोर तथा कायर होगा तो फिर सेना भला कैसे दुश्मनों का मुकाबला करेगी। देश के रक्षा मंत्री बेहद कायर हैं। मैं तो सिर्फ यह जानना चाहता हूं कि उनमें आखिर हिम्मत क्यों नहीं आ रही है।

मुलायम सिंह यादव ने कहा ”जब हम रक्षामंत्री थे तो हमने पाकिस्तान में घुसकर दुश्मनों को मारा था। मैंने उस समय तो अरुणाचल प्रदेश से लेकर पठानकोट तक कार्रवाई कराई थी। मैने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर फायरिंग करवाई थी। हम रक्षामंत्री थे, तो हमारी एक इंच जमीन पर किसी ने कब्ज़ा नहीं किया। मैंने अरुणाचल से लेकर पठानकोट तक फायरिंग करवाई। इसके बाद न चीन ने और न पाकिस्तान ने फायरिंग की। जो भी रक्षामंत्री हों, उनमें हिम्मत होनी चाहिए।”

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने भाजपा पर कड़ा प्रहार किया है। उन्होंने कहा है कि जब देश के जवान शहीद हो रहे हैं तो रक्षा मंत्री आखिर क्या कर रहे हैं। उन्होंने अपने कार्यकाल का भी हवाला दिया। उन्होंने कहा कि जब वो रक्षा मंत्री थे तो दुश्मनों के घर में घुसकर मारने का माद्दा रखते थे। कश्मीर में मंगलवार को आतंकियों ने लेफ्टिनेंट उमर फैयाज पर्रे का अपहरण करने के बाद उनकी हत्या कर दी थी। कल सुबह उनका शव बरामद हुआ था।

मुलायम सिंह यादव ने कहा ”अखिलेश यादव ने तो सिर्फ तीन माह के लिए अध्यक्ष बनने का वादा किया था। इसके बाद उन्होंने पद लौटने की बात कही थी। देश के राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी का नाम तय करने की बाबत उन्होंने कहा कि हम समय आने पर अपने प्रत्याशी के नाम की घोषणा करेंगे।

मुलायम बोले, ‘इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से बेईमानी की संभावना अधिक है। इस मशीन को जापान से मंगाया गया है। जबकि जापान के लोग चुनाव में खुद ठप्पा (बैलेट पेपर से वोटिंग) लगाते हैं। ईवीएम पर सब आशंका व्यक्त कर रहे हैं। मशीन पर अविश्वास हो गया है। मैं प्रधानमंत्री से कहना चाहता हूं कि वह मशीन (ईवीएम) से वोटिंग बंद करवा दें। इसके साथ ही उन्होंने ईवीएम पर कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आखिर ईवीएम से चुनाव क्यों करा रहे हैं। यह मेरी समझ में नहीं आ रहा है। जापान की इस बेहद धोखेबाज मशीन से मोदी का चुनाव कराना उनको संदेह के घेरे में लाता है।