संगीत सोम के बयान से सहमत नहीं, ताजमहल भारतीय मजदूरों के खून-पसीना की देन

87
SHARE

आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा भारत में ताजमहल पूरी दुनिया से लोग देखने आते हैं। यह भारतीय मजदूरों के खून-पसीना की देन है। कौन बनवाया, इसका कोई महत्व नहीं है। भारत की इस विशिष्ट विरासत के संरक्षण की जिम्मेदारी हमारी है। ताजमहल देश तथा प्रदेश के पर्यटन मानचित्र पर बना रहेगा। हमारा ताजमहल हिन्दुस्तानियों के खून-पसीने से बना हुआ है। संगीत सोम के बयान पर मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कम से कम मैं तो संगीत सोम के बयान से सहमत नहीं हूं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश सरकार सूबे की समस्त किलो को संरक्षित करेगी। इसके लिए एक आध्यात्मिक सर्किट बनाया जाएगा। इसमें चुनार का किला, झाँसी किला, कालिंजर किला आदि को स्थान दिया गया है। टूरिस्ट बुकलेट से ताजमहल गायब होने पर मुख्यमंत्री ने बताया कि दरअसल बौद्ध सर्किट व आध्यात्मिक सर्किट पर काम होने के साथ ताजमहल के लिए अलग प्रोजेक्ट बनाया गया है। ताजमहल के लिए अलग से प्रोजेक्ट बनाए जाने की वजह से बुकलेट में दूसरे पर्यटन स्थलों को जगह मिली। ताजमहल के संरक्षण का काम तो सरकार कर ही रही है।

ताजमहल पर योगी आदित्यनाथ ने बयान दिया था कि ताजमहल हमारा गौरव नहीं पर वह जवाब दे रहे थे। उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि ताजमहल तोड़ने के लिए आजम खां के कटाक्ष पर कहा कि आजम खां जैसे लोगों के बयान का कोई मतलब नहीं। ओबैसी हो या आजम खां इन लोगों के पास कोई मुद्दा नहीं है, केवल ऐसे ही बयान देते रहते हैं। उनकी बातों का ध्यान नहीं दिया जा सकता।

गोरखपुर को कई सौ करोड़ की परियोजनाओं की सौगात देने आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ताजमहल के संरक्षण के लिए सरकार 370 करोड़ की कार्ययोजना बनाई है। विश्वबैंक को प्रस्ताव भेजा गया है। उन्होंने बताया कि 26 अक्‍टूबर को वह आगरा जा रहे हैं। वहां कई बड़ी परियोजनाओं पर काम हो रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या हमारी सांस्कृतिक विरासत है। अयोध्‍या भगवान श्रीराम की जन्मभूमि है। इस विरासत को संजोने के लिए हम और हमारी सरकार समर्पित है। अयोध्या को आध्यात्मिक सर्किट से जोड़ा जाएगा। प्रदेश के सभी आध्यामिक स्थलों को इस सर्किट से जोड़ा जाएगा। इसका विकास किया जाएगा। ताकि देश-दुनिया हमारी आध्यात्मिक विरासत को जान सके।

अयोध्या में प्रतिमा स्थापना को लेकर उन्होंने कहा कि यह अभी तय होना शेष है कि वहां किसकी प्रतिमा लगेगी। जल्द ही सब तय हो जाएगा। इसका ख्याल भी रखना है कि यह सब पर्यावरण हितैषी हो। सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा 2018 में राम मंदिर निर्माण की शुरुआत की बात पर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह मामला न्यायालय में लंबित है। न्यायालय के फैसले का इंतजार किया जाएगा। उन्होंने भाजपा के हिंदुत्व कार्ड पर कहा कि हिंदुत्व कोई कार्ड नहीं एक जीवन पद्धति है। इसके बिना सोचा नहीं जा सकता है।

उन्होंने कहा कि हमने छह महीने में और केंद्र की मोदी सरकार ने साढ़े तीन साल में जो काम किए हैं वह कार्य कांग्रेस ने 58 वर्षों में नहीं किया। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के योगी आदित्यनाथ पर दिए गए बयान पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पुजारी ही अच्छा मुख्यमंत्री होता है।ताजमहल पर विवाद में आज प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी कूद पड़े।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज कुशीनगर जिले के दौरे पर थे। कुशीनगर में उन्होंने कहा कि ताजमहल पर संगीत सोम के बयान पर वह सहमत नहीं हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी ताजमहल पर अपना दृष्टिकोण रखा। कुशीनगर में उन्होंने मीडिया से कहा कि ताजमहल तो हिन्दुस्तानियों के खून-पसीने से बना है।