मथुरा डकैती कांड में तीन पुलिसकर्मी निलंबित, घटना सीसीटीवी में कैद

108
SHARE

मथुरा में लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने चार लोगों को गोली मार दी जिनमें से दो की मौके पर ही मौत हो गई। अन्य दो लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। मृतकों में दुकान मालिक विकास अग्रवाल (30) तथा डैम्पीयर नगर निवासी मेघ अग्रवाल (34) शामिल हैं। विकास अग्रवाल के छोटे भाई मयंक अग्रवाल, दुकान के कारीगर अशोक साहू और महमूद अली का इलाज चल रहा है।

घटना मथुरा के व्यस्त बाजार होली गेट से चंद कदमों की दूरी पर कोयला गली स्थित ‘मयंक चेन्से’ में हुई। होली गेट पर हमेशा पुलिस तैनात रहती है। घटना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को अस्पताल में पहुंचाया। घटनास्थल पर पहुंचे आगरा रेंज के आईजी ने बताया कि यह घटना बहुत गंभीर है। लूट के साथ दो लोगों की हत्या पुलिस के सामने एक चुनौती है। उन्होंने कहा कि जल्द ही अपराधी पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

उन्होंने बताया कि मामले को हल करने के लिए पांच टीमें गठित की गई हैं। बाजार के सभी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से हत्यारों की पहचान करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इस मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।

मथुरा के डकैती कांड पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून का राज होगा। यहां पर हमारे शासन में अपराधी के साथ अपराधी जैसा व्यवहार किया जायेगा। किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा। हमारी सरकार के सत्ता संभालने के बाद से प्रदेश में अपराध में कमी आई है। अपराधियों से अपराधी जैसा ही व्यवहार हो रहा है। अब यहां पर कानून से खिलवाड़ नही हो सकेगा और न ही किसी को भी राजनीतिक संरक्षण मिलेगा।

सोमवार रात मथुरा में सवा आठ बजे बदमाशों द्वारा की गई गोलीबारी में दिल्ली के सर्राफ सहित दो लोगों की मौत हो गई। दुकान का मालिक और कारीगर गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। आठ नकाबपोश बदमाश चार मोटरसाइकिलों पर सवार होकर पहुंचे थे।

होलीगेट के पास स्थित कोयला वाली गली में रात को करीब आठ बजे सिविल लाइंस के रहने वाले मयंक अग्रवाल पुत्र मोहनलाल अग्रवाल अपनी सर्राफा की दुकान पर थे। मयंक चेन के नाम से उनकी फर्म है। साथ में उनका बड़ा भाई विकास अग्रवाल भी था। मेरठ का एक कारीगर भी दुकान में था।

डेंपियर नगर निवासी मेघ अग्रवाल जो दिल्ली में ज्वैलरी का कारोबार करते हैं वह भी यहां बैठे हुए थे। करीब सवा आठ बजे का वक्त था कि चार मोटरसाइकिलों पर सवार होकर आठ बदमाश पहुंचे। इन बदमाशों ने पहुंचते ही गोलियां चलानी शुरू कर दीं। गेट के पास बैठे मेघ अग्रवाल (34) पुत्र महेश चंद्र अग्रवाल के चेहरे पर गोली लगी जिससे वह दुकान में ही गिर गए। जबकि मयंक अग्रवाल के कंधे और पेट में गोली लगी। विकास अग्रवाल के हाथ में और सिर में गोली लगी।

जबकि मेरठ निवासी ज्वैलरी कारीगर अशोक के पेट में गोली लगी। मेघ अग्रवाल की दुकान पर ही मौत हो गई थी। विकास ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। बदमाशों ने दुकान में करीब पंद्रह मिनट तक लूटपाट की। माना जा रहा है कि करीब चार करोड़ के गहने और सोना बदमाश लूटकर ले गए हैं। सभी घायलों को भर्ती करा दिया है|