पीड़ित ने कहा- मैंने सबको माफ किया, 100 से 150 लोगों ने घेरकर बोला था हमला

242
SHARE

कासगंज हिंसा में घायल अकरम ने हिंसा में घायल होने के चार दिन बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि 26 जनवरी को वो अपनी गर्भवती पत्नी की डिलीवरी के लिए कासगंज होते हुए अलीगढ़ जा रहा था लेकिन कासगंज पहुंचते ही 100 से 150 लोगों ने उसे घेर कर हमला बोल दिया. हालांकि भीड़ में से ही कुछ लोगों ने अकरम को बचाया और आगे जाने का रास्ता दिया.

हिंसा में 35 साल के अकरम की आंख में गंभीर चोट लगी है और अब भी उसका इलाज जारी है. हादसे के अगले दिन अकरम की पत्नी ने एक बेटी को जन्म दिया.

कासगंज में हालात अब नियंत्रण में हैं. पुलिस ने हिंसा के मामले में अब तक 7 एफआईआर दर्ज किए हैं. अब तक 114 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें 33 का नाम एफआईआर में है. इसके अलावा 81 लोगों को एहतियातन गिरफ़्तार किया गया है.