प्रदूषण से दिल्ली में रोजाना 8 लोगों की मौत होती है, रसायन और तेल पर 4 सप्ताह के अंदर रोक लगाए : सुप्रीम कोर्ट

10
SHARE
दिल्ली में प्रदूषण से रोजाना औसत 8 लोगों की मौत हो जाती है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया कि एनसीआर में उद्योगों में इस्तेमाल होने वाले सल्फरयुक्त रसायन और तेल पर 4 सप्ताह के अंदर रोक लगाए, क्योंकि यह प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण है। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में प्रदूषण रोकने के लिए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, दिल्ली सरकार, हरियाणा, यूपी और राजस्थान सरकार को निर्देश दिया है कि दो हफ्ते के अंदर बैठक कर  कारगर योजना तैयार करें|
न्यायमूर्ति एमबी लोकुर और पीसी पंत की पीठ ने बॉस्टन स्थित संस्थान के अध्ययन के आधार पर कहा कि दिल्ली में हर साल प्रदूषण संबंधित बीमारियों से करीब 3000 लोगों की मौत होती है। पीठ ने 2010 के अध्ययन के आधार पर कहा कि ये मौतें असामयिक होती हैं|
वर्ल्ड एलर्जी ऑर्गेनाइजेशन की जर्नल में 2013 में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली के चांदनी चौक में रहने वाले 66 फीसदी छात्र सांस संबंधी बीमारी से प्रभावित हैं। वहीं मायापुरी में 59 प्रतिशत और दक्षिण दिल्ली के सरोजनी नगर में 46 फीसदी सांस संबंधी बीमारी से ग्रस्त हैं। इस रिपोर्ट के हवाले से कोर्ट ने सरकार को यह निर्देश दिया है। पीठ ने कहा कि तेज यातायात के कारण ही इन इलाकों में बीमारी का यह अंतर है|