गीता फोगाट के असली कोच हुए नाराज़

14
SHARE

khabar43546दंगल बड़े पर्दे पर धमाल मचा रही है।फिल्म दंगल में अपनी भूमिका को नेगेटिव तरीके से दिखाए जाने को लेकर कोच प्यारा राम बेहद नाराज़ है। उन्होने कहा कि फिल्म देखने के बाद वह लीगल एक्शन पर विचार करेंगे। लेकिन उससे पहले वह अपने करीबियों से विचार-विमर्श करेंगे। तभी आगे कोई कदम उठाएंगे।इस फिल्म को देखकर ज़्यादातर दर्शक खुश हैं, तो वहीं कुछ मायूस भी है। मायूस होने वालों में रेसलर गीता फोगाट के रीयल लाइफ कोच प्यारा राम भी हैं|

एक अखबार से बातचीत के दौरान कोच प्यारा राम ने कहा कि मेरा एक शिष्य कल दंगल देखकर आया। उसने पूछा कि 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में कोच तो आप ही थे सर। मेरी हामी के बाद उसका अगला सवाल था कि क्या फाइनल से पहले आपने सचमुच गीता के पापा को एक अंधेरे कमरे में बंद करा दिया था। यह मेरे लिए चौंकाने वाली बात थी क्योंकि ऐसा तो कुछ हुआ ही नहीं। आगे उन्होंने बताया की फिल्म में एक सीक्वंस है कि गीता जब फाइनल खेलने जा रही होती हैं तो उनके कोच ने साजिश रचकर उनके पिता महावीर फोगाट को एक कमरे में बंद करा दिया। क्योंकि कोच नहीं चाहते थे कि गीता की सफलता का श्रेय उनके पिता को मिले। अपनी साजिश में सफल होने के बाद कोच का एक डायलॉग है, क्रेडिट मेरे पापा को जाता है, जा ले ले क्रेडिट। अंधेरे कमरे में बंद महावीर फाइनल मुकाबला भी नहीं देख पाते। प्यारा राम ने कहा कि फिल्म को मसालेदार बनाने के लिए यह सब डाल दिया गया लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ|