आपके एक-एक पैसे की कीमत यह सरकार समझती है, हम देश हित की कीमत पर रेवड़ी नहीं बांटेंगे: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

30
SHARE

बुधवार को दिल्ली के विज्ञान भवन में इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया के गोल्डन जुबली समारोह कार्यक्रम का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा,, ”8 नवंबर की नोटबंदी की घोषणा के बाद जीडीपी अनुपात 12 प्रतिशत से घटकर 9 प्रतिशत दर्ज की गई। हमने पुराने टैक्स समझौतों में बदलाव किया। कई समय से लटका हुआ जीएसटी लागू किया। ब्लैक मनी का काम करने से पहले अब लोग 50 बार सोचते हैं। विकास दर पिछली सरकारों में भी गिरी थी। जो कि 5 प्रतिशत से नीचे रही। ऐसी गिरावट अर्थव्यवस्था के लिए और खतरनाक होती है।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ‘मैंने कभी अर्थशास्त्री होने का दावा नही किया लेकिन भारतवासी अपनी भावना से विकास दर को देख रहे हैं। लोनों ने तो जीडीपी के तरीकों पर भी सवाल उठाए। हमारी जीडीपी से पता चलता है कि देश किस गति से आगे बढ़ा रहा है। क्या पहली बार तिमाही में इतनी गिरावट दर्ज की गई।’

देश की स्थिति बदलने के लिए हम कड़े फैसले लेने को तैयार हैं। सरकार स्थिति बदलने के लिए फैसले ले रही है। हम विकास के लिए आगे भी बढ़े फैसले लेने वाले हैं। आरबीआई ने तो आज ही कहा कि अगली तिमाही अच्छी होगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने कभी भी अर्थशास्त्री होने का दावा नहीं किया। लेकिन आंकड़े बता रहे हैं कि देश आज कहां पहुंचा है। उन्होंने कहा कि आज विदेशी निवेशक भारत में रिकॉर्ड निवेश कर रहे हैं।

पीएम ने किसी नाम लिए बिना कहा कि कुछ लोग देश-हित साध रहे हैं या किसी और का हित। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार में ईमानदारों के हितों की रक्षा होगी। पीएम ने कहा कि हम लकीर के फकीर नहीं हैं, न ही हम दावा करते हैं कि सारा ज्ञान हमारे पास ही है।

मोदी ने कहा कि देश के आर्थिक क्षेत्र को खोलने के बाद से लेकर अब तक जितना विदेशी निवेश भारत में हुआ है, उसकी तुलना अगर पिछले तीन वर्षों में हुए निवेश से करें, तो आपको पता चलेगा कि हमारी सरकार जो रिफॉर्म कर रही है, उसका नतीजा क्या मिल रहा है।

पीएम ने कहा कि मेहनत से कमाए गए आपके एक-एक पैसे की कीमत यह सरकार समझती है। इसलिए सरकार की नीतियों और योजनाओं में इस बात का भी ध्यान रखा जा रहा है कि वो गरीबों और मध्यम वर्ग की जिंदगी तो आसान बनाएं ही, उनके पैसों की भी बचत कराएं।

मोदी ने कहा कि सरकार ने मध्यम वर्ग को घर बनाने के लिए ब्याज में राहत देने का फैसला किया है। चुनाव के दौरान कर्ज माफी को लेकर पीएम ने कहा कि रेवड़ी बांटने के बजाए देश को मजबूत बनाने का कोई और रास्ता नहीं होता क्या? हम देश हित की कीमत पर रेवड़ी नहीं बांटेंगे।