मेरठ में मंत्री की चाबुक वाली बेटी अभी तक पकड़ से दूर, गुंडा एक्ट की तैयारी मे पुलिस

24
SHARE

मेरठ में मेरठ पब्लिक स्कूल गल्र्स विंग में चाबुक से छात्राओं की पिटाई समेत कई आरोपों से घिरी पूर्व मंत्री हाजी याकूब कुरैशी की बेटी आशमा को अब तक पुलिस नहीं पकड़ पायी है। उस की गिरफ्तारी के लिए दबिशों का दावा कर रही पुलिस ने सरकार और माहौल को भांपते हुए अब गैर जमानती वारंट के लिए कोर्ट में अर्जी दी है।

एसएसपी ने कहा है कि स्कूल में आतंक बरपाने वाले सभी आरोपितों पर गुंडा एक्ट में भी कार्रवाई की जाएगी। पुलिस ने दिल्ली में छिपे दो और हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया है।

सोमवार को मेरठ पब्लिक स्कूल गल्र्स विंग में कोतवाली इलाके के सराय बहलीम निवासी पूर्व मंत्री हाजी याकूब की बेटी आशमा पत्नी हाजी शादाब कुरैशी ने दर्जन भर बाहरी युवकों के साथ पचास मिनट तक आतंक बरपाया था। कक्षा में घुसकर चाबुक से कक्षा आठ छात्रा अलीशा व एक अन्य को पीटा।

मंगलवार को स्कूल में अभिभावकों, हिंदू संगठनों और भाजपाइयों के जबर्दस्त हंगामे और प्रदर्शन के बाद मामले ने तूल पकड़ा तो प्रबंधन को तहरीर देनी पड़ी। अलीशा के पिता ने भी सदर बाजार थाने में मुकदमा दर्ज कराया। प्रशासन की ओर से भी स्कूल में घुसकर मारपीट और जानलेवा हमले का मुकदमा दर्ज कराया गया। इसके बाद पुलिस ने दबिश डालकर आरिफ, समीर निवासीगण बरनावा थाना बिनौली जनपद बागपत और फुजैल निवासी सोगान थाना सरधना को जेल भेज दिया। चौथे आरोपित को नाबालिग होने की वजह से थाने से जमानत देकर छोड़ दिया। मंगलवार देर रात पुलिस ने दिल्ली में दबिश डालकर मेरठ के तनवीर आजम और शहजाद को गिरफ्तार कर लिया। दोनों रिश्तेदारी में दिल्ली चले गए थे। एसएसपी मंजिल सैनी ने दोपहर को सदर बाजार थाने में पहुंचकर इन दोनों से पूछताछ की। सीजेएम कोर्ट से दोनों को जेल भेज दिया।

एमपीजीएस में चाबुक से मारपीट करने वाली आशमा के साथ जिन दर्जन भर युवकों ने स्कूल परिसर में हंगामा काटा था उनमें इसी स्कूल की मेन विंग के तीन छात्र भी शामिल थे। ये कुरैशी परिवार के बताए गए हैं। इन तीनों की टीसी बुधवार को काट दी गई है। इनकी पहचान स्कूल के सीसीटीवी की फुटेज से की गई। प्रधानाचार्य संजीव अग्रवाल ने बताया कि कोई और छात्र पहचान में आता है तो उसे भी इसी तरह स्कूल से निकाल दिया जाएगा। उधर दोपहर बाद कई स्कूलों के प्रिंसिपल सुरक्षा को लेकर बैठक करने के बाद एसएसपी मंजिल सैनी से मिले और आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि मेरठ पब्लिक स्कूल गल्र्स विंग में चाबुक लेकर जाने वाली महिला हाजी याकूब की बेटी आशमा है। आशमा ही स्कूल में पढऩे वाली रमशा की खाला है। पहले स्कूल प्रशासन की ओर से सहयोग नहीं किया गया जिससे कार्रवाई में देरी हुई। पुलिस अब तक पांच आरोपितों को जेल भेज चुकी है।