सरकार नागरिकों और मीडिया की बोलने की आजादी छीन रही है, मोदीजी को 100 में से 0 नंबर

34
SHARE

राहुल गांधी ने कहा सरकार नागरिकों और मीडिया की बोलने और लिखने की आजादी छीन रही है। कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट ने ये आरोप पार्टी के माउथपीस नेशनल हेराल्ड के एक प्रोग्राम में लगाया। राहुल ने कहा कि देश के हजारों जर्नलिस्ट्स को वो लिखने की इजाजत नहीं दी जा रही है जो वो हकीकत में लिखना चाहते हैं। कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट ने कहा- मैं उनसे मिला। और उन्होंने मुझसे कहा कि उन्हें चुप करा दिया गया है।

राहुल ने दो दिन पहले अपनी स्वर्ण मंदिर विजिट का जिक्र किया। कहा, “वहां मुझे सिख धर्म की पीरी और मीरी के बारे में पता लगा। पीरी का मतलब है, सच की ताकत और मीरी के मायने हैं ताकत का सच। ये ही आज देश में हो रहा है सच की ताकत को दबाया जा रहा है। जो भी शख्स सच बोलना चाहता है, सच्चाई के लिए खड़ा होना चाहता है, उसे किनारे कर दिया जाता है। दलितों को पीटा जा रहा है, माइनोरिटीज को डराया जा रहा। जर्नलिस्ट्स और ब्यूरोक्रेट्स को धमकाया जा रहा है।”

राहुल ने कहा- दो दिन पहले जब मैं मध्य प्रदेश गया तो वहां मुझे एक पुलिसवाले ने बताया कि उससे वो कराया जा रहा है जो वो नहीं करना चाहता। मैंने उससे पूछा था कि मैं भारत का नागरिक हूं तो फिर मध्य प्रदेश क्यों नहीं आ सकता? क्यों मुझे रोका जा रहा है? इस पर उसने कहा- हमें तो आपको रोकने को कहा गया है।

राहुल ने कहा- 40 नंबर में पास होते हैं, लेकिन मोदीजी को 100 में से 0 नंबर मिले। उन्होंने कहा- ये लोगों का ध्यान भटकाना चाहते हैं। कहते हैं देश में किसान ना किसान है और ना युवा। हम तो सरकार लोगों को लड़ा के चलाएंगे। पिछले हफ्ते यूपी गया तो वहां भी यही हुआ। मुझे बॉर्डर पर ही रोक लिया गया। ये वो भारत है जहां हम रह रहे हैं। देश और हर शख्स जानता है कि सच क्या है, लेकिन लोग सच बोलने में लोग डर रहे हैं।

राहुल ने कहा- जब सच को चुप करा दिया जाता है तो वो झूठ हो जाता है, और यही काम ये सरकार कर रही है। ये हर आदमी को चुप करा देना चाहती है। नेशनल हेराल्ड के एडिटर एक दिन मेरे पास आए। मैंने उनसे कहा- अगर आपको किसी दिन कांग्रेस पार्टी या मेरे खिलाफ कुछ लिखना हो तो बिना खौफ के लिखें। ये वो चीज है जो हम नेशनल हेराल्ड से चाहते हैं। सच्चाई से डरने की जरूरत नहीं है और ना चुप रहने की।