चुनाव खर्च का हिसाब नहीं देने वालो के खिलाफ आयोग नोटिस जारी करेगा, अपर्णा यादव, योगेश दीक्षित सहित कई बड़े नाम

22
SHARE

विधानसभा चुनाव के दौरान हुए खर्च का का हिसाब देने के लिए आयोग नेताओ को कई बार निर्देश जारी कर चूका है, मगर अभी भी कुछ नेताओ ने चुनावी खर्च का हिसाब नहीं दिया है, इस लिस्ट में बड़े बड़े नेता भी है| सपा की अपर्णा यादव व रविदास मेहरोत्र और बसपा प्रत्याशी योगेश दीक्षित भी इस लिस्ट है|

जिला निर्वाचन कार्यालय की आय व्यय समिति ने गत विधानसभा चुनाव लड़ने वाले नौ विधानसभाओं के 126 उम्मीदवारों को दस अप्रैल तक अपने चुनावी खर्च का ब्योरा देने को कहा गया था। दरअसल चुनाव परिणाम जारी होने के तीस दिनों के भीतर सभी को अपना लेखा-जोखा देना था। लखनऊ पूर्व से चुनाव जीतकर कैबिनेट मंत्री बनने वाले आशुतोष टंडन ने निर्वाचन कार्यालय से खर्च का हिसाब देने के लिए एक दिन का समय मांगा है।

अब आयोग चुनाव खर्च का हिसाब नहीं देने वाले प्रत्याशियों को नोटिस जारी करेगा। चुनाव आय-व्यय अनुवीक्षण अधिकारी संजय सिंह के मुताबिक जिनके चुनावी खर्च का हिसाब नहीं मिला है उनको जिला निर्वाचन कार्यालय की ओर से मंगलवार को नोटिस भेजा जाएगा। जवाब मिलने के बाद आयोग आगे की कार्रवाई करेगा।

विधानसभा चुनाव में एक प्रत्याशी अधिकतम 28 लाख रुपये खर्च कर सकता था। चुनाव लड़ने वालों को तीन चरणों में अपना हिसाब किताब देना था। आयोग ने खर्च के लिए करीब 150 चीजों की अनुमानित रेट लिस्ट जारी कर दी जिसके आधार प्रत्याशी द्वारा दिए गए खर्चे से मिलान किया जाएगा। चुनाव में प्रत्याशियों को सारे भुगतान चेक के माध्यम से ही करने थे। केवल एक बार एक ही दम में प्रत्याशियों को 20 हजार रुपये का भुगतान नकद में करने की छूट थी।
आय-व्यय अनुवीक्षण अधिकारी संजय सिंह के मुताबिक प्रत्याशियों का लेखाजोखा मिल गया है। अब इनका आडिट किया जाएगा।
खर्चे का हिसाब नहीं देने वालो में सरोजनीनगर के लल्लन सिंह, शैलेंद्र सिंह, रामदुलार सिंह व जिमीदार, लखनऊ पश्चिमी से गुलाम अहमद, तौहीद सिद्दीकी, अकरम खान, लखनऊ पूर्व से विधायक आशुतोष टंडन व तेज कुमार शुक्ल, लखनऊ मध्य के रविदास मेहरोत्रा, लखनऊ कैंट से अपर्णा यादव, सच्चिदानंद श्रीवास्तव, कुंवर गौरव उपाध्याय, योगेश दीक्षित, नीरज कुमार, वीरेंद्र कुमार शुक्ला, प्रशांत सिंह, लखन अवस्थी और एसपी सिंह, मोहनलालगंज के अजेय पुष्पा रावत व मालती देवी रावत जैसे नाम है| अब इस सब लोगो के खिलाफ आयोग नोटिस जारी करने जा रहा है|