कानपुर के पूर्व मेयर की 7 मंज‌िला कोल्ड स्टोरेज में लगी आग 36 घंटे बाद भी नहीं बुझी

58
SHARE

बुधवार रात कानपुर बांसमंडी में पूर्व महापौर अनिल शर्मा के सात मंजिला कोल्ड स्टोरेज और गोदाम में लगी आग शुक्रवार सुबह तक नहीं बुझ पाई है। 36 घंटे बाद भी आग पर काबू नहीं पाया जा सका है।

जहरीला धुआं आसपास के इलाके में फैल गया। सांस लेना मुश्किल हो गया। आंखों में जलन शुरू हो गई तो लोग पलायन करने लगे। यहीं स्थित बर्फ कारखाने में अमोनिया टैंक फटने की नौबत आई तब फायर ब्रिगेड की 10 दमकलें पहुंची। हालात बेकाबू होने पर अमोनिया एक्सपर्ट बुलाए गए और टैंकों को खाली करवाना शुरू किया गया। आस-पास के 20 से ज्यादा मकानों को खाली करवाया गया। इस बीच कोल्ड स्टोरेज व गोदाम की दीवार गिर गई तो बस्ती के लोग भाग खड़े हुए। देर रात तक आग बुझाई जाती रही। तीन लोग बेहोश हो गए।

कानपुर के पूर्व महापौर अनिल शर्मा आर्य नगर में रहते हैं। बांसमंडी में उनका कानपुर आइस एंड कोल्ड स्टोरेज है। इसी परिसर में बर्फ का कारखाना भी है। उन्होंने बताया कि बुधवार रात करीब 10 बजे शार्ट सर्किट से कोल्ड स्टोरेज के बेसमेंट में आग लग गई। लाटूश रोड फायर स्टेशन से तीन दमकलें पहुंची और आग पर काबू पा लिया। बेसमेंट में शहर केतमाम व्यापारियों का किराना का सामान, आलू मेवा और अन्य सामान भरा था। सामान जलने के बाद बेसमेंट में पानी भर गया, लेकिन आग पूरी तरह नहीं बुझी। फायर कर्मी यह कहकर चले गए कि बेसमेंट से सामान के बोरों को मजदूरों से बाहर निकालवा दें। इसके बाद आग पूरी तरह बुझाई जा सकेगी। रात भर आग सुलगती रही। उन्होंने फायर, पुलिस और प्रशासनिक अफसरों को बताया लेकिन सीएफओ ने सभी अफसरों को बता दिया कि बेसमेंट खाली हुए बिना आग पूरी तरह नहीं बुझाई जा सकती है। इस वजह से आग बढ़ती गई।

सातों मंजिल में बने चेबरों को चपेट में ले लिया। आसमान में धुएं का गुबार फैल गया। धुएं से आसपास के लोगों को सांस लेने में दिक्कत शुरू हो गई। आंखों में जलन होने लगी। आसपास के कई परिवार घर में ताला लगाकर रिश्तेदारों के घरों को चले गए। अगर लपटें बर्फ कारखाने तक पहुंच जाती और अमोनिया का रिसाव शुरू हो जाता तो बड़ा हादसा हो सकता था। स्थिति बेकाबू होने पर उन्होंने फिर अफसरों से शिकायत की। साथ ही मदद की गुजारिश की। इसके बाद एसीएम, सीओ अनवरगंज श्वेता यादव, अनवरगंज व रायपुरवा थाने की फोर्स पहुंची। एसीएम और सीओ के कहने पर फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां पहुंची। कोल्ड स्टोरेज में लगी आग पर काबू पाने के लिए आडिनेंस फैक्ट्री और फर्टिलाइजर की भी गाड़ियों को बुलाया गया। लाटूश रोड और फजलगंज की गाड़ियां भी वहां पहुंची। अनवरगंज इंस्पेक्टर राजेश श्रीवास्तव भी फोर्स के साथ कोल्ड स्टोरेज पहुंचे। उन्होंने लाटूश रोड फायर स्टेशन अफसर और सीएफओ से गाड़ियां भेजने की गुजारिश की, लेकिन सभी ने अनसुना कर दिया।