पीलीभीत में फीस न देने पर बच्चे ने आत्महत्या की, पांच साल पहले पिता ने भी की थी आत्महत्या

78
SHARE

पीलीभीत में स्कूल की फीस न देने पर स्कूल वालों की डांट फटकार से परेशान होकर बच्चे ने पेड़ से फांसी का फंदा लटकाकर खुदकुशी कर ली. स्कूल वाले बच्चे को परेशान और जलील करते थे.

स्कूल के मैनेजर और स्टाफ के खिलाफ पुलिस ने बच्चे को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कर लिया. स्कूल मैनेजर स्कूल बंद करके फरार है.

पीलीभीत के मौरनिया गांधीनगर गांव में 14 साल का रॉबिन अपनी बहन के साथ यहां अमन चिल्ड्रन स्कूल में पड़ता था. रॉबिन की मां लता गांव के ही प्राइमरी स्कूल में रसोइया का काम करती हैं. रॉबिन के पिता ने पांच साल पहले गरीबी और तंगहाली से परेशान होकर खुदकुशी कर ली थी. रॉबिन की मां डेढ़ हजार रुपये महीना कमाती हैं, जबकि दोनों बच्चों की स्कूल की फीस 340 रुपये महीना है. जो पिछले 6 महीने से वह नहीं दे पाई थीं.

रॉबिन और उसकी बहन डांट पड़ने के डर से तीन दिन से स्कूल नहीं जा रहे थे. सोमवार सुबह जब रॉबिन की मां ने उससे स्कूल जाने को कहा तो उसने कहा कि मैं नहीं जाऊंगा, सर फीस के लिए बहुत परेशान करते हैं. मां ने कहा- वह अपने काम से लौटकर उसके स्कूल आएंगी और कुछ पैसा वहां जमा कर देंगी. दोनों भाई-बहन घर से तो निकले लेकिन बहन स्कूल पहुंच गई, लेकिन रॉबिन नहीं पहुंचा. मां जब घर के बाहर निकली तो उसने देखा कि घर के बगल में लगे लिची के पेड़ से रॉबिन ने फांसी लगा ली है. कम पढ़ी लिखी होने की वजह से मां को समझ नहीं आया और अप्राकृतिक डेथ में पुलिस से संपर्क नहीं किया. मां ने बच्चे का अंतिम संस्कार कर दिया. आस पड़ोस वालों ने सूचना दी तो मामला खुला. पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है.