अवैध खनन के आरोपी गायत्री के करीबियों के दस ठिकानों पर सीबीआइ के छापे

75
SHARE

सीबीआइ ने शामली जिले में अवैध खनन के मामले में पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के दो करीबियों समेत नौ के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के बाद इनके दस ठिकानों पर छापे डाले हैं। प्राथमिकी में गायत्री के करीबियों विकास वर्मा और अमरेंद्र सिंह उर्फ पिंटू के अलावा शामली में असिस्टेंट जियोलॉजिस्ट के पद पर तैनात डॉ. अदल सिंह, आमिर सिद्दीकी, जेपी पांडेय, सतीश कुमार, संदीप राठी, मंगल सेन वर्मा और रमेश कुमार गहलयान के नाम हैं। इनके खिलाफ सीबीआइ को कापी साक्ष्य हासिल हो चुके हैं।

सीबीआइ ने शुक्रवार को इन आरोपितों के नई दिल्ली, लखनऊ, भिवानी, सोनीपत, पानीपत, बागपत और अलीगढ़ के ठिकानों पर छापेमारी की। गायत्री प्रसाद प्रजापति के साथ जेल में बंद अमरेंद्र सिंह उर्फ पिंटू सिंह के गोमतीनगर और अमन वर्मा के कृष्णानगर स्थित ठिकानों पर भी टीम पहुंची और कई दस्तावेज कब्जे में लिए। इनमें अवैध खनन के लेन-देन से जुड़े भी कई कागज मिले हैं। गौरतलब है कि हाईकोर्ट के निर्देश पर प्रदेश में 18 जिलों के अवैध खनन की जांच सीबीआइ कर रही है। इनमें शामली भी शामिल है। गत 23 फरवरी से चल रही इस जांच में इन नौ आरोपियों के खिलाफ अब तक सीबीआइ को कई साक्ष्य मिल चुके हैं।

गायत्री के करीबियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज होने के बाद उनकी भी मुश्किलें और बढऩे के आसार हैं। इससे पहले 30 जून को सीबीआइ ने कौशाम्बी जिले में हुए अवैध खनन के मामले में प्रारंभिक जांच के बाद दस आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज किया था। इसमें वहां के असिस्टेंट जियोलॉजिस्ट अरविंद कुमार को नामजद किया गया था। उधर हमीरपुर में अवैध खनन के मामलों में सीबीआइ ने गायत्री की कोठी का भी निरीक्षण किया और समाज कल्याण विभाग के एक लिपिक को उठा ले गई। टीम ने हमीरपुर में उक्त लिपिक के बैंक खातों की भी पड़ताल की।

source-DJ