स्वास्थ्य केंद्र पर आठ घंटे तड़पने के बाद जच्चा-बच्चा दोनों ने दम तोड़ा

53
SHARE

मामला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पिनाहट का है। दो दिन पूर्व केंद्र पर एक प्रसूता आठ घंटे तक तड़पती रही, जिसके बाद जच्चा-बच्चा दोनों ने दम तोड़ दिया। मामला दबा दिया गया। प्रसूता के पति का आरोप है कि पत्नी के इलाज में लापरवाही बरती गई।

एसीएमओ डॉ. बीरेन्द्र भारती ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है। यदि ऐसा कोई मामला है तो निष्पक्ष जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

गांव कुकथरी निवासी राधा को प्रसव पीड़ा होने पर परिजनों ने सोमवार सुबह करीब नौ बजे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पिनाहट में भर्ती कराया। दिनभर वह दर्द से कराहती रही। आरोप है कि कोई भी स्वास्थ्य कर्मी उसके पास नहीं भटका। शाम को जब हालत बिगड़ने लगी तो स्वास्थ्य कर्मियों ने आगरा रेफर कर दिया। महिला ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

मृतका के पति श्रीकांत शर्मा का कहना है कि सुबह से ही नर्सें कुछ ही देर में बच्चा होने की बात कहती रही। बाहर से दवाएं भी मंगाई गईं। हालत खराब होने पर बताया कि दवा की वजह से बेहोशी की हालात में है। पीड़ित ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया है।