कानपुर कोल्ड स्टोर के मलबें में दबे 100 मजदूर, 3 की मौत

67
SHARE
कानपुर के शिवराजपुर इलाके में बुधवार को कटियार कोल्ड स्टोरेज की बिल्डिंग तेज धमाके के साथ गिर गई। इसके बाद से अमोनिया का रिसाव लगातार जारी है। हादसे में मलबे तले दबे दर्जन भर लोगों को बाहर निकाल लिया गया है जबकि 70 से अधिक लोगों के मलबें तले दबे होने की संभावना जताई जा रही है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कटियार कोल्ड स्टोरेज में इस बार दो नए चेंबर बनाए गए थे। मौजूदा समय में लोडिंग का काम जारी था। अमोनिया सिलेंडर फटने से यह दर्दनाक हादसा हुआ है। यह भी सूचना मिली है कि इस बार आलू की पैदावार अधिक होने से तय क्षमता से अधिक स्टोरेज किया गया था।
घटना की सूचना के बाद से प्रशासन लगातार राहत कार्य में जुटा हुआ है। सभी बड़े अधिकारी मौके पर बराबर नजर रख रहे है। हर संभव मदद के लिए प्रयास किया जा रहा है। वहीं कानपुर के बड़े अस्पताल हैलट में अलर्ट जारी है।
खेत में काम कर रहे लोगों का कहना है, तेज धमाके से कोल्ड स्टोर की बिल्डिंग गिरी जिसके बाद भगदड़ मच गई। लोग मौके पर मदद करने के लिए दौड़े, लेकिन अमोनिया गैस के तेज रिसाव के चलते कोई नजदीक नहीं पहुंच सका। लोगों ने बताया पास जाने पर आंखों में तेज जलन और सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। इललिए काफी देर तक मदद करना संभव नहीं हुआ।
बिल्डिंग तले दबे मजदूरों की दर्दभरी आवाजें लगातार आ रही है। मलबे से अमोनिया के गैस सिलेंडर और भारी भरकम गैस क्वॉयल को मलबे से अलग कर किया गया है। प्रशासन द्वारा घटना के दो घंटे बाद तक उपयुक्त मदद मुहैया न कराने की बात कही जा रही है। जानकारी मिली है कि  घटना सुबह के लगभग 11 बजे हुई जबकि दोपहर दो बजे के बाद भी बाद भी प्रशासन मौके पर कोई तकनीकी टीम नहीं भेज पाया। वहीं घटना के बाद मौके पर जबरदस्त जमावड़ा लग गया। खबर मिलने पर डीएम और एसपी भी घटनास्थल पर पहुंचेे।
मौके पर जमा लोगों में हादसे को लेकर रोष साफ झलक रहा है। जब पुलिस घटनास्थल से जमा भीड़ को पीछे हटा रही थी तो लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। भीड़ ने जबरदस्त धक्का मुक्की चालू कर दी। देखते ही देखते मैदान में धूल का गुबार उठ गया। जैसे-तैसे लोगों को समझा बुझाकर शांत कराया गया।
ग्रामीण मदद भाव से आगे आकर मलबा हटाने में तत्पर हैं। ये लोग अभी भी मलबे तले दबे मजदूरों को बाहर निकालने का काम कर रहे हैं। मलबे से अभी तक ग्यारह घायलों को बाहर निकाले जाने की सूचना मिली है। इन्हें इलाज के लिए हैलेट भेजा गया है। यह जानकारी एडीएम द्वारा दी गई है।
रेस्क्यू ऑपरेशन में 2 दमकल की गाड़ियां,6 जेसीबी मशीन लगाई गई है। ये तेजी से मलबा हटाने का काम कर रही है।
मलबा हटाने का काम तेजी से किया जा रहा है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों की जान बचाई जा सकी। इसके लिए मौके पर कई एंबुलेंस भी तैनात है। मलबे से निकाले जा रहे घायलों को फोरन अस्पताल ले जाया जा रहा है।
कानपुर के हैलेट अस्पताल से घायलों की पहली सूची जारी कर दी गई है। इनमें रंजीत साहनी, गोरे लाल साहनी, मनीष साहनी, जितेन्द्र राम, पवन कुमार, रामानंद, धनंजय राम शामिल हैं। ये सभी मजदूर बिहार के रहने वाले हैं।
अस्पताल में किसी तरह का हंगामा न हो इस बात का विशेष ध्यान रखते हुए अस्पताल में फोर्स को तैनात कर दिया गया है। अस्पताल में घायलों के इलाज की पूरी तैयारी की गई है। जिस किसी घायल को यहां लाया जा रहा है फौरन उसे उपचार के लिए ले विशेष वार्ड में ले जाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि इस विशेष वार्ड की व्यवस्था हादसे में घायलों के लिए ही की गई है।