शहीद सत्यनारायण का पार्थिव शरीर देवरिया पहुंचा, चाची की सदमे से मौत

163
SHARE

पाकिस्तान के सीमा पर सीज फायर का उल्लंघन करने पर शहीद देवरिया के लाल सत्यनारायण का पार्थिव शरीर आज देवरिया पहुंच गया है। उनका पार्थिव शरीर गांव पहुंचते ही कोहराम मच गया। उधर अपने भतीजे के शहीद होने की सूचना चाची ने भी दम तोड़ दिया।

जम्मू कश्मीर के अखनूर सेक्टर में शनिवार को शहीद देवरिया जनपद के बांसपार बैदा के लाल सत्य नारायण यादव का पार्थिव शरीर गांव पहुंच गया है। आज उनका पार्थिव शरीर लेकर जैसे ही बीएसएफ के अधिकारी तथा सत्यनारायण के साथ पहुंचे, गांव में चारों तरफ कोहराम मच गया। उनके घर के आसपास सैकड़ों की संख्या लोग जुट गए हैं। वहां पर मौजूद हर शख्स की आंख नम है।

सदर कोतवाली के बांसपार बैदा गांव निवासी सत्य नारायण यादव बीएसएफ की 33वीं बटालियन में एएसआइ के पद पर तैनात थे, वर्तमान में उनकी तैनाती जम्मू कश्मीर के अखनूर सेक्टर में थी। शनिवार की रात पाकिस्तान की तरफ से फायरिंग हुई, इस दौरान उन्हें गोली लग गई और वह शहीद हो गये। सोमवार की सुबह पांच बजे शहीद का शव गांव पहुंचा।

देवरिया के शहीद जवान के सभी आक्रोशित परिजन नरेंद्र मोदी सरकार पर बरस पड़े और कहा कि उन्हें पाकिस्तान से केवल और केवल बदला चाहिए। इसके साथ ही परिजनों ने यह भी कहा कि पाकिस्तान से भारत को कभी बातचीत नहीं करनी चाहिए। विलाप करती हुई शहीद जवान की पत्नी ने सरकार से मांग की कि उनके दोनों बेटो को नौकरी दी जाए और पाकिस्तान से बदला लिया जाए।

गोरखपुर के ग्राम बेदा निवासी बीएसएफ जवान सत्य नारायण के शहीद होने के बाद उनकी चाची रामरती देवी 80 ने भी आज तड़के इस दुनिया को अलविदा कह दिया। जिसके बाद गांव का माहौल और गमगीन हो गया है।

source-Dainik Jagran