सांता क्लॉज की ड्रेस में था हमलावर, इस्तांबुल में क्लब में फायरिंग, 2 भारतीय नागरिकों समेत 39 की मौत

10
SHARE
सुषमा स्वराज ने रविवार देर शाम ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी। तुर्की के सबसे बड़े शहर इस्तांबुल में नए साल के जश्न के दौरान एक क्लब में फायरिंग हुई। इसमें फिलहाल 39 लोगों के मारे जाने की खबर है। इनमें 2 भारतीय नागरिक भी शामिल हैं।
इस फायरिंग में 40 लोग जख्मी हुए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमलावर सांता क्लॉज की ड्रेस में था
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट किया कि मेरे पास तुर्की से बुरी खबर है।उन्होंने कहा, “इस्तांबुल हमले में दो भारतीय नागरिक भी मारे गए।इंडियन अम्बेस्डर इस्तांबुल के लिए रवाना हो गए हैं।पूर्व राज्यसभा सांसद के बेटे अबीस रिजवी और गुजरात की खुशी शाह इस हमले में मारे गए|”
इस्तांबुल हमले में मारे गए अबीस हसन पूर्व राज्यसभा सांसद अख्तर हसन रिजवी के बेटे और रिजवी बिल्डर्स के सीईओ भी थे।अबीस बॉलीवुड डायरेक्टर/प्रोड्यूसर भी थे और सेलिब्रिटी सर्किल में अबीस काफी फमस भी थे।अबीस ने ‘रोर: टाइगर ऑफ सुंदरबन’ मूवी प्रोड्यूस की थी। इस मूवी का प्रमोशन सलमान खान ने किया थामीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अबीस दोस्तों के साथ न्यू ईयर सेलिब्रेशन के लिए तुर्की गए थे|
तुर्की की इंटीरियर मिनिस्टर सुलेमान सोयलू के मुताबिक, हमले में 39 लोगों की मौत हो गई। 21 की पहचान कर ली गई है। मारे गए लोगों में 16 विदेशी और 5 तुर्क थे।”
लोकल टाइम के मुताबिक, रात करीब 1.45 बजे सांता क्लॉज की ड्रेस में एक हमलावर ने राइफल से लोगों पर फायरिंग शुरू कर दी।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हमलावर ने क्लब में घुसने से पहले पुलिस पर फायरिंग की। बाद वो क्लब में भी अंधाधुंध फायरिंग करने लगा। हमले के वक्त क्लब में 700 से 800 लोग मौजूद थे|
इस्तांबुल के गवर्नर वासिप साहिन ने इसे एक आतंकी हमला बताया।घटना के बाद पुलिस ने क्लब के आसपास का करीब 2 किमी का इलाका सीज कर दिया।पिछले कुछ महीनों में हुए आतंकी हमलों के बाद तुर्की पहले से हाई अलर्ट पर था।जिसके लिए न्यू ईयर पर सिर्फ इस्तांबुल में 17 हजार पुलिस बल की ड्यूटी लगाई गई थी।10 दिसंबर को एक फुटबॉल स्टेडियम के पास हुए दो धमाकों में 44 लोगों की मौत हो गई थी और 149 जख्मी हुए थे। तुर्की के कुर्दिश आतंकी गुट ने हमले की जिम्मेदारी ली थी।इस घटना के एक हफ्ते बाद सुसाइड कार ब्लास्ट में 14 पुलिस जवानों की मौत हो गई|
19 दिसंबर को रूसी एम्बेसडर आंद्रेई कार्लोव की एक पुलिस जवान ने उस वक्त हत्या कर दी जब वे एक एग्जीबिशन में थे। जवान ने गोली मारने के बाद सीरिया को लेकर नारे भी लगाए थे।जून में तुर्की के कमाल अतातुर्क एयरपोर्ट पर हुए ट्रिपल सुसाइड ब्लास्ट में 47 लोग मारे गए थे।अगस्त में एक शादी समारोह में हुए आतंकी हमले में 34 बच्चों समेत 57 लोग मारे गए।15 जुलाई को सेना के एक हिस्से ने तख्तापलट की कोशिश की थी। तुर्की सरकार ने अमेरिका में रह रहे इस्लामिक धर्मगुरु फतेउल्ला गुलेन पर इसका आरोप लगाया था|