ग्रेटर नोएडा में 15 साल के लड़के ने ही मां और बहन का बेरहमी से कत्ल किया था

98
SHARE

ग्रेटर नोएडा में मां की डांट-फटकार के चलते ही 15 साल के नाबालिग लड़के ने अपनी मां और बहन की निर्ममता से हत्या कर दी. वह हत्या की प्लानिंग बहुत दिनों से कर रहा था. 4 दिसंबर की शाम को वह अपनी मां अंजलि अग्रवाल और 12 साल की बहन मणिकर्णिका के साथ खाना लाने के लिए निकला. लिफ्ट की सीसीटीवी में वह अपनी बहन के साथ हंसकर बात करता दिख रहा, लेकिन 10 बजे जब बाकी लोग सो गए तब वह मां के कमरे में आया और क्रिकेट बैट से कई वार किए, फिर कैंची से भी कई दफा गोद डाला. इतने पर भी जब उसे संतोष नहीं हुआ तो उसने पिज्जा कटर से उनका चेहरा काट दिया. मां की हत्या की बात पता न चले इसकी वजह से उसने अपनी बहन की भी इसी तरह हत्या कर दी.

हत्या के बाद नाबालिग ने स्नान किया और कपड़े बदल कर रेलवे स्टेशन पहुंच गया. पहले लुधियाना, फिर चंडीगढ़, वहां से शिमला फिर रांची चला गया. रांची से फिर बनारस लौटा. चार दिन तक भटकने के बाद जब पैसे खत्म हो गए तो उसे घर की याद आई. इस बीच उसका बैग भी चोरी हो गया. बनारस में किसी अनजान शख्स से मोबाइल मांगकर उसने पिता को फोन किया. पिता सौम्य अग्रवाल के पास फोन आते ही नोएडा पुलिस की टीम तुरंत बनारस रवाना हो गई. करीब चार घंटे की खोजबीन के बाद फरार लड़का गुमसुम हालत में दश्वासमेघ घाट पर पकड़ा गया.

गौतमबुद्ध नगर के एसएसपी लव कुमार बताते हैं कि लड़का बेतहाशा रो रहा है. वह मानसिक अवसाद में है. वह खुद भी नहीं समझ पा रहा है कि उसने इतनी बेरहमी से ये हत्याएं क्यों की. उन्होंने कहा कि मां का हमेशा पढ़ाई के लिए उसे डांटना फटकारना और बहन को ज्यादा तवज्जो मिलने से वह नाराज रहता था. स्कूल में भी उसके दोस्त उससे ज्यादा घुलते मिलते नहीं थे. एसएसपी ने बताया कि इन्हीं सब वजहों से हो सकता है कि उसने यह खतरनाक कदम उठाया. हत्या के पीछे वीडियो गेम की किसी भी भूमिका को वह खारिज करते हैं.

एसएसपी ने कहा कि लड़के ने ये भी कई बार सोचा कि बार बार डांट खाने से अच्छा है कि आत्महत्या कर लूं, लेकिन सोमवार को मां का उसे को पीटना एक फौरी वजह बन गई. सोमवार की रात रात को ही उसने मां और बहन की हत्या कर दी.