श्रेष्ठा ठाकुर का रवैया ठीक नहीं, इसलिए तबादला, बीजेपी सांसद

138
SHARE

महिला डीएसपी श्रेष्ठा ठाकुर के तबादले पर मेरठ से बीजेपी सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि महिला पुलिस अधिकारी श्रेष्ठा ठाकुर का रवैया ठीक नहीं था इसलिए उसका तबादला करना पड़ा।

बता दें कि बीजेपी नेता के साथ हुई बहस के वीडियो के वायरल होने के बाद उन्हें बुलंदशहर से हटाकर बहराइच भेज दिया गया था। जब मीडिया में इस बात को लेकर हल्ला होने लगा तो बीजेपी की तरफ से ये सफाई दी जा रही थी कि श्रेष्ठा ठाकुर का तबादला एक रुटीन ट्रांसफर के तहत किया गया है।

उनके साथ ही 88 अन्य पुलिस कर्मियों के भी तबादले किये गए थे। अब बीजेपी सांसद के इस बयान ने फिर से इस बात को आग दे दी है कि श्रेष्ठा ठाकुर का तबादला बीजेपी नेता के साथ बहस के चलते किया गया।

खबरों के मुताबिक श्रेष्ठा ठाकुर के तबादले का निर्णय तब लिया गया जब बीजेपी के 11 विधायक और सासंदों ने योगी आदित्यनाथ से मिलकर इसकी सिफारिश की थी। राजेंद्र अग्रवाल ने कहा कि योगी आदित्य नाथ ने पुलिसवालों को छूट दे रखी है कि कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जो करना हो करो, लेकिन श्रेष्ठा ठाकुर ने अपनी हदें पार कर दी थीं।