‘सिर काटकर लाल चौक पर टांग देंगे’- आतंकी मूसा ने हुर्रियत नेताओं को दी धमकी

22
SHARE

आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन ने कश्मीर में हुर्रियत नेताओं को धमकी दी है। बुरहान वानी की जगह हिज्बुल के कमांडर बने जाकिर मूसा ने एक ऑडियो संदेश के जरिए हुर्रियत नेताओं से कहा है कि अगर वो नहीं सुधरे तो उनका गला काटकर लालचौक में लटका दिया जाएगा।

तीन दिन पहले कट्टरपंथी सईद अली शाह गिलानी, उदारवादी हुर्रियत प्रमुख मीरवाईज मौलवी उमर फारुक और यासीन मलिक ने संयुक्त बयान जारी कर कहा था कि कश्मीर में सिर्फ आजादी की जंग चल रही है। इसका दुनिया में जारी इस्लामिक आतंकवाद से कोई सरोकार नहीं है। भारतीय सुरक्षा एजेंसियां कश्मीरियों की आवाज को दबाने के लिए ही यहां जारी आजादी के आंदेालन को आईएसआईएस, अल कायदा व इस्लामिक कट्टरवाद से जोड़ रही है।

अलबत्ता, जाकिर मूसा ने आज एक बार फिर अपने आडियो संदेश में साफ कर दिया कि वह या उसके साथी जो भी बंदूक लेकर कश्मीर में लड़ रहे हैं, वह कश्मीर की आजादी के लिए नहीं बल्कि कश्मीर में इस्लामिक राज और शरिया की बहाली के लिए लड़ रहे हैं।

जाकिर मूसा ने अलगाववादी नेताओं से सवाल किया है कि अगर यह यह इस्लामिक जंग नहीं है तो फिर यह नारा क्यों लगाया जाता है कि पाकिस्तान से हमारा नाता क्या:ला इल्लाह-इल-लल्लाह, आजादी का मतलब क्या:ला इल्लाह-इल-लल्लाह। हम लोग बचपन से यहीं नारा सुनते आए हैं और इसी नारे की दुहाई देकर आप लोगों ने हमें बंदूक उठाने को कहा। अगर यह इस्लामिक जंग नहीं है तो फिर आप मस्जिदों का इस्तेमाल क्यों कर रहे हैं। अगर यह इस्लामिक जंग नहीं तो फिर भारतीय फौज से कुफार से जंग में शहीद होने वालों केा आप मुजाहिदीन ए इस्लाम क्यों कहते हो।

जाकिर ने अपने आडियो संदेश में हुर्रियत नेताओं को धमकाते हुए कहा कि अगर उनहोंने अपनी गंदी सियासत को बंद नहीं किया तो हम उनके सिर काट, लालचौक में लटका देंगे। हम कुफार को छोड़ पहले आपको लटकाएंगे, लालचौक मेें गले काटेंगे। कुरान की एक आयत का जिक्र करते हुए जाकिर ने कहा कि हुर्रियत नेता सिर्फ सियासी नेता हैं और वह हमारे लीडर नहीं हो सकते।

source-DJ