महाभारत पढ़ रहा हूं, कहानियां अबराम को सुनाता हूं, इस्लाम की कहानियां भी सुनाता हूं- शाहरुख ख़ान

30
SHARE

सुपरस्टार शाहरुख ख़ान का मानना है कि धर्म व्यक्तिगत मामला होता है और वह चाहते हैं कि उनके बच्चे खुद से इसके बारे में जानें. शाहरुख ख़ान ने ईद के मौके पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि उनके माता-पिता ने उन्हें सभी धर्मो का आदर करना सिखाया है.

उन्होंने कहा, ‘मेरा विश्वास है कि धर्म व्यक्तिगत मामला है. आप एक-दूसरे के बारे में जानते और आदर करते हैं क्योंकि आप खुद से अपने धर्म के बारे में जानते हैं.’

ख़ान अपनी अच्छी लाइब्रेरी के लिए भी जाने जाते हैं. उन्होंने खुलासा किया है कि वह आजकल महाभारत पढ़ रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘मैं पिछले डेढ़ साल से महाभारत पढ़ रहा हूं. मैं इसकी कहानियां पसंद करता हूं. मैं यह कहानियां अबराम को सुनाता हूं. ठीक इसी तरह इस्लाम की कहानियां भी उन्हें सुनाता हूं. मैं आशा करता हूं कि सारे धर्मों के बारे में वह खुद से जानेंगे और उसका आदर करेंगें.’

शाहरुख की बेटी सुहाना हाल ही में उनके साथ मुंबई में एक बड़े रेस्त्रां शुरू होने के मौके पर नजर आई थी. इन दोनों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगी थी लेकिन अभिनेता का कहना था कि उनका सार्वजनिक जगहों पर जाना फिल्म से जुड़ा हुआ नहीं था. उन्होंने ने कहा कि बहुत ज्यादा मीडिया अटेंशन से उनके बच्चे अच्छा महसूस नहीं करते हैं.

उन्होंने कहा, ‘मैं आप लोगों से आग्रह करता हूं कि अगर आप उन्हें सार्वजनिक स्थल पर देखें तो यह न सोचें कि वह मीडिया को वैसे ही हैंडल करेंगे जैसे मैं करता हूं. वह चिन्ता में पड़ जाते हैं. और दूसरी बात यह कि उनका सार्वजनिक स्थल पर आने का मतलब अभिनेता-अभिनेत्री बनने से नहीं है.’

शाहरुख तीन बच्चों के पिता हैं, आर्यन, सुहाना और अबराम. शाहरुख ने इस वर्ष हिंदी फिल्म जगत में 25 वर्ष पूरे कर लिए, जिसके लिए उन्होंने मीडिया के जरिए अपने प्रशंसकों का आभार व्यक्त किया.