अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता इतिहास को तोड़-फोड़ करने की इजाजत नहीं देती

40
SHARE

फिल्म पद्मावत को लेकर देशभर हो रहे विरोध भी आज फिल्म रिलीज हो गयी है, कई शहरों में सिनेमाहॉल में तोड़फोड़ के बाद आज कई सिनेमाघरों में सुरक्षा के इतंजाम किए गए हैं. पद्मावत पर कई लोगों के बयान समर्थन में हैं तो कई ने इसके विरोध में अपनी राय व्यक्त की है.

सुप्रीम कोर्ट साफ कर चुका है कि जब सीबीएफसी ने सर्टिफिकेट दे दिया है तब किसी भी सरकार के पास यह अधिकार नहीं है कि वह फिल्म पर रोक लगा सके. राज्य सरकारों को सिनेमाघरों को सुरक्षा मुहैया करानी होगी और कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी उनकी है.

इस मामले में पूर्व सेना प्रमुख और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने बयान दिया है. उन्होंने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता इतिहास को तोड़-फोड़ करने की इजाजत नहीं देती, तो जो विरोध कर रहे हैं उनके साथ बैठकर इसको सुलझाया जाए. जब चीजें सहमति से नहीं होती हैं तो फिर उसमें गड़बड़ होती है.