गायत्री प्रसाद पर सपा कार्यकर्ता ने मुकदमा दर्ज कराया

13
SHARE
मेरठ परतापुर निवासी सपा कार्यकर्ता राकेश प्रजापति ने सपा सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति पर एक और एफआइआर दर्ज कराई है। इंस्पेक्टर गौतमपल्ली के मुताबिक मंगलवार को थाने में मारपीट, धमकी, गालीगलौज व रुपये हड़पने के मामले में मुकदमा दर्ज हुआ है।
गौतमपल्ली थाने में दी गई तहरीर में सपा कार्यकर्ता राकेश ने कहा है कि गायत्री प्रसाद प्रजापति को चकबंदी लेखपाल बनने के लिए छह लाख रुपये उनके सरकारी आवास पर दिए थे। जब नौकरी नहीं लगी तो गायत्री से विरोध किया, जिस पर उन्होंने दूसरे विभाग में नौकरी लगवाने की बात कही थी। कहीं सरकारी नौकरी न मिलने पर राकेश ने 17 जनवरी को गायत्री के गौतमपल्ली स्थित सरकारी आवास पर जाकर धनराशि वापस मांगी, जिस पर गायत्री ने अपने गुर्गों संग मिलकर उसे जमकर पीटा और दोबारा रकम मांगने पर जान से मारने की धमकी दी। गायत्री के रसूख के आगे वह कुछ भी नहीं कर सका। गायत्री के जेल जाने के बाद रुपये मिलने की उम्मीद खत्म होता देख राकेश ने मुकदमा दर्ज कराया। इंस्पेक्टर गौतमपल्ली ने बताया कि मामले की विवेचना गौतमपल्ली थाने के एसएसआइ नावेंद्र शेखर अग्निहोत्री को सौंपी गई है।
समाजवादी पार्टी की सरकार में चित्रकूट की महिला सपा कार्यकर्ता ने डीजीपी तक गुहार लगाई, लेकिन गायत्री समेत उनके करीबियों पर सामूहिक दुष्कर्म समेत अन्य धाराओं में एफआइआर दर्ज नहीं हुई। बाद में उसे सुप्रीम कोर्ट का सहारा लेना पड़ा, तब जाकर कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज हुआ। लेकिन, पुरानी सरकार में पुलिस ने सात में से एक भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं किया। सरकार बदलते ही गायत्री समेत सभी सातों आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली गई। सरकार बदलने का ही असर है कि राकेश के एफआइआर देते ही गौतमपल्ली थाने में गायत्री के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज हो गया। इसके मुकदमे के बाद गायत्री की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं।