कर्नाटका में मुख्यमंत्री के रूप में सिद्धारमैया पहली पसंद, किसी को भी बहुमत नहीं मिलने का संकेत

45
SHARE

कर्नाटक विधानसभा चुनावों से पहले कई चैनलों के ओपिनियन पोल सामने आ चुके हैं जिनके अनुसार राज्य में त्रिशंकु विधानसभा के आसार हैं. वहीं मुख्यमंत्री के रुप में सिद्धारमैया लोगों की पहली पसंद बने हुए हैं. इंडिया टुडे-कार्वी इनसाइट्स के बाद टाइम्स नाउ-VMR और JAIN-लोकनीति CSDS के ओपिनियन पोल में भी कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा के आसार जताए हैं.

टाइम्स नाउ-VMR के ओपिनियन पोल के अनुसार, कांग्रेस भले ही मामूली बढ़त बनाते हुए दिख रही हो लेकिन भाजपा भी इसमें पीछे नहीं है, दोनों दलों के बीच मात्र 2 सीटों का फासला है. वहीं जेडीएस+बीएसपी राज्य में किंगमेकर की भूमिका में नजर आ रही है. ओपनियन पोल सर्वे के अनुसार, 224 सदस्यों वाली विधानसभा में इस समय सत्ता पर काबिज कांग्रेस को 91, भाजपा को 89 तथा जेडीएस+बसपा को 40 सीटें मिलती हुईं दिखाई दे रहीं है. बता दें कि राज्य में बहुमत का आंकड़ा 112 सीटों का है.

वहीं मुख्यमंत्री सिद्धारमैया का लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा देने का फैसला मतदाताओं को लुभाने में कारगर होता नहीं दिख रहा क्योंकि लिंगायत राजनीति का केंद्र मुंबई कर्नाटक क्षेत्र में कांग्रेस के खाते में 21 और बीजेपी के खाते में 23 सीटें जाती दिख रही है. 4 और 16 अप्रैल के बीच किए गए इस सर्वे में राज्य के सभी 6 क्षेत्रों से 4,000 से ज्यादा लोगों को शामिल किया गया. सर्वे के मुताबिक, लिंगायत समाज का 60 फीसदी वोट भाजपा के पक्ष जाता दिख रहा है. सर्वे के मुताबिक कांग्रेस को सिर्फ 23 फीसदी लिंगायत वोट मिलेंगे.