NIA का अलगाववादियों पर शिकंजा, मनी लॉन्ड्रिंग केस में शब्बीर शाह गिरफ्तार

27
SHARE

श्रीनगर में हुर्रियत नेता शब्बीर अहमद शाह को ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में उनके घर से गिरफ्तार कर लिया है। अनंतनाग के शब्बीर शाह जम्मू-कश्मीर डेमोक्रेटिक फ्रीडम पार्टी का अध्यक्ष है। यह अलगाववादियों का मुख्य राजनीतिक संगठन है। यह कश्मीरियों के आत्मनिर्णय के अधिकार की वकालत करता है।

शब्बीर को बुधवार को दिल्ली ले जाया जा सकता हैं जहां पहले से ही सात अलगाववादी नेता को शिकंजे में रखा हुआ है। वहीं, एनआईए आतंकी फंडिग केस में शब्बीर से पूछताछ भी कर सकती है।

प्रवर्तन निदेशालय की मांग पर अलगाववादी नेता शाह के खिलाफ इसी महीने गैर-जमानती वारंट जारी किया हुआ था। बता दें कि ईडी के आठ बार समन जारी करने के बावजूद भी शाह पेश नहीं हुआ था। लेकिन, इस बार कोई देर न करते हुए उसके खिलाफ दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने गैर-जमानत वारंट जारी कर दिया।

वहीं समन के बावजूद पेश होने के सवाल पर शब्बीर शाह ने अपनी सफाई में कहा था कि उसे पिछले तीन सालों से घर में गिरफ्तार कर रखा गया है और उसके वकील ईडी के सामने हर तारीख पर पेश हो रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि असलम वानी नाम के शख्स को दिल्ली पुलिस ने 2005 में गिरफ्तार किया। बता दें कि असलम को हवाला कारोबार के चलते धरा गया था और उसके तार शाह से जुड़े हुए थे। खबर है कि असलम ने प्लान के मुताबिक अलग-अलग समय पर शाह को 2.25 करोड़ रुपये दिए।

और यहीं से ईडी ने इन दोनों पर शिकंजा बनाना शुरू कर दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। पुलिस ने वानी को 63 लाख की नकदी के साथ पकड़ने का दावा किया था। पुलिस ने बताया कि वानी के पास ये रकम हवाला के जरिए मध्य एशिया से पहुंचाई गई थी।

वहीं, पुलिस को दिेए बयान में वानी ने इस रकम में से 50 लाख रुपये शाह को देने की बात स्वीकारी। इतना ही नहीं पुलिस ने दावा किया कि वानी बाकी की रकम श्रीनगर में जैश-ए मोहम्मद के एरिया कमांडर अबु बकर को पहुंचाने वाला था।