आगरा में तलाक लिए बिना धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम युवक से की दूसरी शादी

137
SHARE

आगरा में पति से तलाक लिए बिना महिला ने धर्म बदलकर अल्पसंख्यक युवक से निकाह कर लिया। इस पर मंगलवार को दीवानी में हंगामा हो गया। अपहरण के मुकदमे में अपने बयान दर्ज कराने दीवानी पहुंचे

युवक को महिला अधिवक्ताओं ने पीट दिया। हरीपर्वत क्षेत्र की युवती ने वर्ष 2005 में एक अधिवक्ता से प्रेम विवाह किया था। उसके दस साल का बेटा भी है। दो साल से महिला का पति से कोर्ट में संबंध विच्छेद का विवाद चल रहा है। तलाक नहीं हुआ है। कुछ दिन पहले सिकंदरा के बाबरपुर निवासी कामरान ने विवाहिता का धर्म परिवर्तन कराके निकाह कर लिया। विवाहिता प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक है।

पिछले माह कामरान की बहन ने एसएसपी को प्रार्थना पत्र देकर विवाहिता पर भाई के अपहरण का आरोप लगा दिया। थाना हरीपर्वत पुलिस मंगलवार को कामरान को लेकर कोर्ट में बयान दर्ज कराने पहुंची थी। जानकारी मिलने पर अधिवक्ता पति के समर्थन में साथी अधिवक्ता और हिंदू संगठन के लोग वहां पहुंच गए।

कोर्ट के बाहर भीड़ को देखते हुए पुलिस कामरान को सीजेएम कोर्ट से पीछे के रास्ते से एसीजेएम-11 की अदालत में ले गई। यहां से बयान के बाद पुलिस कामरान को बाहर ले जा रही थी। तभी महिला अधिवक्ताओं ने उसे जूते से पीट दिया। पुलिस ने किसी तरह उसे बचाया।

source-DJ