उत्तर प्रदेश में हुई बड़ी हार की जिम्मेदारी शिवपाल यादव ने ली

17
SHARE

उत्तर प्रदेश विधानससभा चुनाव में हुई समाजवादी पार्टी की करारी हार के बीच जसवंतनगर की अपनी सीट से जीते एसपी के वरिष्ठ नेता शिवपाल सिंह यादव ने हार की जिम्मेदारी ली है और कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाते हुए संघर्ष करने की बात कही है.

शिवपाल ने रविवार को कहा कि वह हार की जिम्मेदारी खुद ले रहे हैं. इटावा की तीन सीटों में से सिर्फ जसवंतनगर सीट पर ही एसपी का कब्जा हो सका. इस सीट पर शिवपाल एसपी के उम्मीदवार थे. कार्यकर्ताओं को अपनी जीत के प्रति आभार जताते और होली की शुभकामनाएं देते हुए शिवपाल ने कहा, ‘‘हम संघर्ष करेंगे और फिर आगे बढ़ेंगे.’’

उन्होंने कार्यकर्ताओं से हिम्मत नहीं हारने की अपील करते हुए कहा, ‘‘एसपी जहां से शुरू हुई है आज वहीं आ गई, लेकिन हम लोग पीछे नहीं हटेंगे.’’ विधानसभा चुनाव में एसपी की करारी हार हुई. पार्टी मात्र 47 सीटें जीत सकी. इस हार में पार्टी के 30 से ज्यादा मंत्री भी हार गए.

हार के लिए कोई नहीं जिम्मेदार: मुलायम सिंह यादव

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी की हार के लिए कल तक कांग्रेस से गठबंधन को वजह बताने वाले एसपी के सरंक्षक मुलायम सिंह यादव आज ऐसा नहीं मानते हैं. उन्होंने रविवार को कहा कि पार्टी की हार के लिए कोई जिम्मेदार नहीं है. रविवार को होली के लिए इटावा के सैफई आए मुलायम ने कहा, “पार्टी की हार के लिए कोई जिम्मेदार नहीं हैं. हम लोग जनता को प्रभावित नहीं कर पाए. हार की कोई वजह नहीं है.”

उन्होंने कहा, “बीजेपी ने लोकसभा के चुनाव में वायदे किए थे, उनको वह पूरा नहीं कर पाई. लेकिन फिर जनता से इस बार जीतने के बाद वायदे पूरे करने को कहा है कि रोजगार देंगे, भत्ता देंगे. देखना है कि बीजेपी कितना वायदा पूरा करता है.”

पार्टी की हार को लेकर उन्होंने कहा, “सभी पार्टी हार के बाद समीक्षा करती हैं हम भी समीक्षा करेंगे. पहले होली का त्योहार मना लें.” मुलायम ने फिर कहा, “पहले भी हम चुनाव हारे थे तब तो 17 एवं 18 ही सीटें आई थी जो बहुत कम थी. उस समय के बाद हम लोगों ने चार बार सरकार बनाई. इस बार हारे हैं तो हम लोग फिर सरकार बना कर दिखा देंगे.”

कांग्रेस ने मुझे हरवा दिया: रविदास मेहरोत्रा

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की मध्य विधानसभा सीट पर मात्र 5094 मतों से पराजय का सामना करने वाले वरिष्ठ समाजवादी पार्टी के नेता रविदास मेहरोत्रा ने कांग्रेस पार्टी पर सीधा निशाना साधते हुए स्पष्ट कहा कि कांग्रेस पार्टी ने मारूफ खां के रूप में अपना प्रत्याशी उतारकर उन्हें चुनाव हरवा दिया. माना जा रहा है कि कांग्रेस की तरफ से मारूफ खां के खड़े होने से यह वोट बंट गया और बीजेपी को फायदा हो गया.

रविदास ने रविवार को कहा, “क्षेत्र में उन्हें पराजय मिलने से न सिर्फ उनकी छवि खराब हुई है, बल्कि पूरे प्रदेश में एसपी के खिलाफ गलत संदेश भी गया है. उनकी हार के लिए सीधे तौर पर कांग्रेस जिम्मेदार है. कांग्रेस उम्मीदवार मारूफ ने 12921 वोट काट लिए. यदि कांग्रेस अपना उम्मीदवार न खड़ा करती तो वह वोट उन्हें मिल जाते.” समाजवादी पार्टी और कांग्रेस पार्टी का गठबंधन बरकरार रहने संबंधी सवाल पर रविदास ने कहा कि वह इस संबंध में पार्टी फोरम के सामने अपनी बात रखेंगे.

बता दें कि लखनऊ की मध्य विधानसभा सीट पर बीजेपी उम्मीदवार बृजेश पाठक 78,400 मत पाकर विजयी हुए हैं. वहीं दूसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार रविदास मेहरोत्रा को 73,306 मत मिले हैं तो तीसरे नंबर पर बीएसपी उम्मीदवार राजीव श्रीवास्तव को 24,313 और कांग्रेस उम्मीदवार अब्दुल मारूफ खां को 12921 मत मिले हैं.