सहारनपुर में हुई घटना पर समाजवादी पार्टी का योगी सरकार पर हमला, बोले बीजेपी सरकार पूरी तरह से विफल

21
SHARE

समाजवादी पार्टी का कहना है कि सहारनपुर की घटना ने उत्तर प्रदेश में सुरक्षा पर गंभीर सवाल खड़ा कर दिया है. प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति नियंत्रण में नहीं रह गई है. पूरे प्रदेश के अधिकांश जिलों में अपराधियों के हौसले बुलंद हो गए हैं. ऐसे में समाजवादी पार्टी 29 मई को उत्तर प्रदेश में बीजेपी शासन के दौरान बढ़ती हिंसा और जन विरोधी नीतियों के खिलाफ राज्यपाल राम नाईक को ज्ञापन सौंपेगी.

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा, ‘‘जातीय और सांप्रदायिक संघर्ष के साथ हत्या, लूटपाट, रेप की घटनाओं में बेतहाशा इजाफा हो रहा है. ऐसे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपराधियों को चेतावनी पर चेतावनी दे रहे हैं, जबकि उसका कहीं कोई असर नहीं दिख रहा है. प्रदेश में कानून व्यवस्था तार-तार हो गई है. यह स्थिति बेहद दुखद है.’’

राजेन्द्र चौधरी ने आज बताया कि बिगड़ती कानून व्यवस्था को देखते हुए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर प्रदेश में बीजेपी शासन में बढ़ती हिंसा और जन विरोधी नीतियों के खिलाफ 29 मई को सभी जिलों में समाजवादी पार्टी के जिला पदाधिकारियों द्वारा जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन सौंपकर उनसे हस्तक्षेप की अपील की जाएगी.

चौधरी ने कहा कि तीन साल में केंद्र की बीजेपी सरकार विफलता के शिखर पर है तो यूपी में योगी सरकार ने अपने कार्यकाल के 70 दिनों में ही कानून व्यवस्था की गंभीर स्थिति पैदा कर दी है. सहारनपुर में लगातार तीन गंभीर घटनाएं सड़क दूधली, शब्बीरपुर और रामनगर में हुई. उन्होंने कहा कि मथुरा में डकैती और सर्राफा हत्याकांड, ग्रेटर नोएडा जेवर क्षेत्र में चार महिलाओं के साथ रात्रि में सामूहिक बलात्कार और हत्या, वाराणसी में 10 करोड़ रूपये की डकैती, गोरखपुर में हत्याएं, इलाहाबाद में सामूहिक बलात्कार और हत्या आदि दिल दहलाने वाले लोमहषर्क कांड हुए हैं. राजधानी लखनऊ भी अपराधों से आतंकित है.

चौधरी ने बताया कि जिलाधिकारियों के माध्यम से राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन के माध्यम से एसपी गंभीरता से यह बात संज्ञान में लाना चाहती है कि बीजेपी सरकार पूरी तरह से विफल है और अपने प्रचंड बहुमत के सहारे समाज के हर वर्ग को आतंकित करना चाहती है.