समाजवादी पार्टी में एक बार फिर चाचा-भतीजे की वर्चस्व को लेकर साइलेंट जंग

8
SHARE

समाजवादी पार्टी के कुनबे में लड़ाई की खबरे लंबे अर्से से चल रही थीं लेकिन कुछ दिनों पहले इन खबरों पर विराम लग गया। पर अब एक बार फिर चाचा-भतीजे की पार्टी में वर्चस्व को लेकर साइलेंट जंग शुरू हो गई है। समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव और अखिलेश दोनों ऐसे एकतरफा फैसले ले रहे है जो इनकी आपसी लड़ाई को सतह पर ला रहा है। अखिलेश यादव वो सरकारी फैसले ले रहे हैं जो शिवपाल यादव को चिढ़ा रहे है तो जवाब में शिवपाल यादव के सांगठनिक फैसले भी अखिलेश यादव को परेशान करने के लिए काफी है। अखिलेश ने शिवपाल के विरोधी सपा नेता जावेद आब्दी को राज्यमंत्री का दर्जा दिया तो शिवपाल ने अखिलेश के करीबियों के टिकट छीन लिए।

 अखिलेश के करीबियों के काटे टिकट

शिवपाल यादव ने बीतो दिनों 23 प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की। इस लिस्ट में चुनचुन कर उन लोगों के नाम हैं जिनका अखिलेश यादव सार्वजनिक रूप से विरोध कर चुके है। अतीक अहमद और सिबगतुल्लाह अंसारी को टिकट देना ही अखिलेश यादव को चिढ़ाने के लिए काफी था, लेकिन चाचा शिवपाल यही नहीं रुके और सात उन लोगों के टिकट भी काट दिये जो मुख्यमंत्री के करीबी थे।