साक्षी महाराज को भी नहीं पता GST की फुल फॉर्म, बोले- इनकम टैक्स देने की व्यवस्था

707
SHARE

उन्नाव में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान जब साक्षी महाराज से पत्रकारों ने जीएसटी का फुलफॉर्म पूछा तो वे इसे बता न सके।

शनिवार को बीजेपी सांसद से उन्नाव में प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे। इस दौरान वे जीएसटी की बड़ाई कर रहे थे। इसी बीच एक पत्रकार ने उनसे पूछा- जीएसटी का फुल फॉर्म क्या है? इसके जवाब में साक्षी महाराज ने कहा- ”जीएसटी का…ये एकल व्यवस्था है, केवल सारे करों को इकट्ठा करके इनकम टैक्स देने की व्यवस्था है।

आप जाने GST के बारे में-

GST का मतलब गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स है। इसको केंद्र और राज्‍यों के 17 से ज्‍यादा इनडायरेक्‍ट टैक्‍स के बदले में लागू किया जाएगा। ये एक ऐसा टैक्‍स है, जिसे देश भर में किसी भी गुड्स या सर्विसेज की मैन्‍युफैक्‍चरिंग, बिक्री और इस्‍तेमाल पर लागू होगा। इसके लागू होने के बाद से एक्‍साइज ड्यूटी, सेंट्रल सेल्स टैक्स (सीएसटी), राज्य स्तर पर सेल्स टैक्स यानी वैट, एंट्री टैक्स, लॉटरी टैक्स, स्टैंप ड्यूटी, टेलिकॉम लाइसेंस फी, टर्नओवर टैक्स, बिजली के उपयोग या बिक्री पर लगने वाले टैक्स, गुड्स के ट्रांसपोर्टेशन पर लगने वाला टैक्स आदि खत्म हो जाएंगे।

सरल शब्‍दों में कहें ताे जीएसटी पूरे देश के लिए इनडायरेक्‍ट टैक्‍स है, जो भारत को एक समान बाजार बनाएगा। जीएसटी लागू होने पर सभी राज्यों में लगभग सभी गुड्स एक ही कीमत पर मिलेंगे। अभी एक ही चीज के लिए दो राज्यों में अलग-अलग कीमत चुकानी पड़ती है। इसकी वजह अलग-अलग राज्यों में लगने वाले टैक्स हैं। इसके लागू होने के बाद देश बहुत हद तक सिंगल मार्केट बन जाएगा।