सहारनपुर दंगा योगी सरकार को बदनाम करने की साजिश : भाजपा

24
SHARE

सहारनपुर में जारी दलित-ठाकुर विवाद अब जानलेवा हो चला है। कल मंगलवार को मायावती के सहारनपुर दौरे के बाद एक दलित की हत्या से विवाद की आग और भड़क गई है। बदले में किसी कार्रवाई के होने की आशंका से प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैं। हालांकि, प्रशासन ने कहा है कि सुरक्षा के पूरे इंतजाम कर लिए गए हैं और किसी भी तरह के उपद्रवी को देखने पर उसके खिलाफ तत्काल कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं। सहारनपुर के हर प्रमुख क्षेत्र में जांच और सख्त कर दी गई है। बिना जांच के कोई भी वाहन क्षेत्र से नहीं गुजरने दिया जा रहा है। वहीं, भाजपा ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि यह एक बड़ी प्रशासनिक चूक का मामला है, जिसे कुछ स्वार्थी तत्व अपने निजी हितों के कारण हवा दे रहे हैं। पार्टी ने घटना में मारे गये व्यक्ति के प्रति शोक सम्वेदना व्यक्त की है और प्रदेश सरकार से इस घटना के प्रति जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता विजय सोनकर शास्त्री ने कहा कि इस घटना को जानबूझकर प्रदेश सरकार को बदनाम करने के लिए बढ़ाया जा रहा है। प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार बहुत अच्छे ढंग से कार्य कर रही है, लेकिन कुछ लोगों को ये बात पसंद नहीं आई है। जाहिर है कि वे प्रदेश में अशांति फैलाकर सरकार को बदनाम करना चाहते हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता शास्त्री ने कहा कि यह विवाद तब शुरू हुआ था जब दलितों ने आंबेडकर की शोभा यात्रा निकाली थी, तब उनके काफिले पर कुछ मुस्लिमों के द्वारा हमला किया गया था। और अब इसे बड़े ही शातिराना ढंग से इसे दलित बनाम ठाकुर का रंग दे दिया गया है।