सीएम चुनने के लिए RSS ने कोई दवाब नहीं बनाया: वेंकैया नायडू

53
SHARE
बीजेपी के सीनियर लीडर वेंकैया नायडू ने कहा है कि योगी आदित्यनाथ को सीएम बनाने के पीछे आरएसएस का दबाव नहीं था। नायडू ने कहा- नए सीएम को विधायकों ने ही अपना नेता चुना। यही हमारा सिस्टम है। बता दें कि नायडू को पार्टी ने विधायक दल की मीटिंग में ऑब्जर्वर बना कर भेजा था। योगी के नाम के एलान के बाद से ही अपोजिशन आरोप लगा रही है कि यह फैसला संघ के एजेंडा को आगे बढ़ाने के लिए लिया गया।
– नायडू ने कहा, ”लोगों को शांति से हार स्वीकार करना चाहिए। हमें बहुमत मिला है। नए सीएम को बेहतर काम का माहौल देना चाहिए। हम सभी लोगों को साथ लेकर चलेंगे, चाहे वह किसी भी धर्म के हों। पीएम कह चुके हैं कि यूपी का विकास होगा, तभी भारत आगे बढ़ेगा। ये सरकार सबकी है।”
– ”विधायक दल की बैठक में हमारे विधायक सुरेश खन्ना ने योगी के नाम का प्रपोज किया था, 9 विधायकों इसका समर्थन किया। एक राय बनने के बाद मैंने नेशनल प्रेसिडेंट अमित शाह को मैसेज भेजा गया।”
– ”योगी जाति के ऊपर उठकर काम करने वालों में से हैं। वह पीएम की आशाओं को अच्छी तरह समझते हैं। जाति और धर्म पुरानी बात हो गई हैं। अब लोग विकास चाहते हैं।”
– रविवार को आदित्यनाथ ने सीएम, केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा ने डिप्टी सीएम और 44 मंत्रियों ने शपथ ली थी।
अपोजिशन ने लगाए थे आरोप
– बीएसपी समेत कई अपोजिशन पार्टियों ने आरोप लगाया था। रविवार को मायावती ने कहा, ”बीजेपी ने योगी को सीएम बनाने का फैसला संघ के दवाब में लिया। ताकि 2019 में विकास का एजेंडा छोड़कर वोटों का बंटवारा कर इलेक्शन जीता जा सके। इसीलिए संघ के आदमी को मुख्यमंत्री बनाया है।”
– कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा, ”योगी पहले खुद को सुधार लें। जो जहर वह पहले लोगों के लिए उगलते रहे हैं, उनका विश्वास जीतना बीजेपी सरकार के लिए बड़ी चुनौती होगा।