हरदोई जिला कारागार में बंदियों का बवाल, नारेबाजी की, खाना छोड़ा

109
SHARE

हरदोई जिला कारागार में आज दोपहर में बंदियों ने खाना लेने से इन्कार कियाऔर नारेबाजी करने लगे। सूचना मिलते में काफी संख्या में पुलिस बल जीवन रक्षक किट के साथ कारागार में पहुंच गए।

सीओ सिटी व एसडीएम ने पहुंच कर बंदियों से वार्ता की। बंदियों ने उन्हें अपनी समस्याओं को लेकर ज्ञापन दिया। उसके बाद मामला शांत हुआ। अवकाश पर गए जेल अधीक्षक का अवकाश निरस्त कर तुरंत जेल पहुंचने के निर्देश दिए गए। देर शाम को डीआईजी वीके जैन ने कारागार का निरीक्षण किया।

विदित हो अपराह्न 12 बजे के करीब कारागार में बंदियों को भोजन के लिए बैरक से पाकशाला जाना पडता है। उस समय सभी बंदी बैरक के बाहर होते हैं। आज अपराह्न 12 बजे जैसे ही बंदी बैरक से पाकशाला पहुंचे। वैसे ही बैरक नंबर 3 व 4 के बंदियों ने भोजन लेने से इन्कार कर दिया। कारागार में धरने पर बैठ गए और जेल प्रशासन व अपनी मांगों के संबंध में नारेबाजी करने लगे। सूचना पर सीओ सिटी व एसडीएम सदर कारागार काफी संख्या में पुलिस बल के साथ पहुंचे। बाद में उनकी ओर से अपनी समस्याओं को लेकर ज्ञापन दिया गया। एसडीएम के आश्वासन के बाद बंदी शांत हुए और उन लोगों ने भोजन ग्रहण किया।

हरदोई जिला कारागार में कुछ राजनीतिक परिवार से जुड़े बंदी है। उसमें से कुछ का स्थानांतरण गैर जनपद जेल में करने का विचार चल रहा है। इसे लेकर बंदी गुड्डू यादव के समर्थन में कुछ बंदी लामबंद हो गए। इन लोगों ने भोजन के समय लामबंदी कर नारेबाजी की। दरअसल, जेल में अभी पाकशाला बैरक क्षेत्र में बनी है तो वहां बंदी अपने हिसाब से भोजन व्यवस्था करवा लेते हैं। लेकिन अब नई पाकशाला बैरक क्षेत्र के बाहर बन गई है। उसको हैंडओवर तो करीब 9 माह पहले कर दिया गया था लेकिन वह शुरु नहीं हो पाई थी। अब उसमें पाकशाला ले जाने का विचार चल रहा है। इसलिए अब बंदियों की मनमानी नहीं चल पाईगी।

बंदियों की नारेबाजी शुरू होते ही कारागार गेट पर एलर्ट फायर किया गया। उसके साथ ही आपातकालीन घंटा बजने लगा। फायर होते ही जेल कर्मी जो अपने आवास पर भी थे दौड़े चले आए। शहर कोतवाली पुलिस , सीओ सिटी व एसडीएम सदर पहुंच गए।जिसने भी सुना कि कारागार में बवाल हो गया है। वही जेल की ओर दौड़ चला। लेकिन वहां जाकर कुछ भी पता नहीं चल रहा था। छन कर आ रही खबर के बाद पता चला कि बंदियों ने भूख हड़ताल कर दी है।

एसडीएम सदर आशीष सिंह ने बताया कि उनको बंदियों ने अपनी समस्याओं को लेकर एक ज्ञापन दिया है। इस पर वह जांच कराएंगे। क्या समस्याएं हैं। क्या कार्यवाही होगी इस पर उन्होंने कुछ नहीं बताया।