राज्यसभा में मोदी को बुलाने की मांग

8
SHARE
राज्यसभा में अपोजिशन लीडर्स वेल में आकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। विंटर सेशन के दौरान सोमवार को भी नोटबंदी पर हंगामा जारी है।जिसके चलते राज्यसभा की कार्यवाही दो बार स्थगित कर दी गई। अपोजिशन पीएम की मौजूदगी की मांग कर रहा है। सदन के नेता अरुण जेटली ने कहा,” हम चर्चा के लिए तैयार हैं, पर विपक्ष ये चाहता ही नहीं।” लोकसभा में भी विपक्ष के नेता नोटबंदी पर नारेबाजी कर रहे हैं। इससे पहले लोकसभा में कानपुर ट्रेन हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी गई। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि बैंक और एटीएम के सामने कतारों में लगने से मारे गए लोगों को भी श्रद्धांजलि दी जाए|
12.06 PM: हंगामे के चलते राज्यसभा की कार्यवाही 12.34 बजे तक स्थगित की गई।
12.05 PM: रेल मंत्री ने कहा, “मैं हादसे में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं। मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ हैं।”
12.02 PM: “फॉरेंसिक जांच के आदेश दे दिए गए हैं। जो भी हादसे में दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ा एक्शन लिया जाएगा।”
12.00 PM: सुरेश प्रभु बोले, “ट्रेन हादसे की सूचना मिलते ही तुरंत राहत और बचाव के काम शुरू किए गए। सीनियर ऑफिसर्स को मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए गए।”
12.00 PM: लोकसभा में सुरेश प्रभु ने कानपुर ट्रेन हादसे पर बयान दिया।
11.55 AM: लोकसभा की कार्यवाही 12.00 बजे तक के लिए स्थगित हुई।
11.37 AM: राज्यसभा की कार्यवाही दोबारा 12.00 बजे तक के लिए स्थगित की गई।
11.30 AM: राज्यसभा की कार्यवाही फिर से शुरू हुई, चर्चा में पीएम को बुलाने को लेकर का हंगामा जारी।
11.14 AM:RS में विपक्ष ने नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी की, 11.30 बजे तक कार्यवाही स्थगित की गई।
11.12 AM:राज्यसभा में बोले अरुण जेटली- विपक्ष चर्चा नहीं चाहता है, केवल कार्यवाही को रोकने के तरीके ढूंढता है।
11.11 AM: गुलाम नबी बोले, “नोटबंदी के दौरान बैंकों के सामने कतारों में लगे जो लोग मारे गए, उन्हें भी तो सदन में श्रद्धांजलि दी जाए।”
11.10 AM: गुलाम नबी आजाद ने कहा, “ट्रेन हादसे में मारे गए लोगों की आत्मा को भगवान और अल्लाह शांति दे।’
11.09 AM: RS में माकपा नेता सीताराम येचुरी ने ट्रेन हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी।
11.08 AM:लोकसभा में कानपुर ट्रेन हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी गई।
11.00 AM:लोकसभा और राज्यसभा में सदन की कार्यवाही शुरू हुई।
10.43 AM:संसद भवन के गेट पर टीएमसी नेताओं ने पोस्टर दिखाकर नोटबंदी के खिलाफ किया प्रदर्शन।
10.40 AM: पीएम नरेंद्र मोदी ने संसद में पार्टी के सीनियर लीडर्स के साथ मीटिंग की।
10.32 AM:मीटिंग के बाद अपोजिशन पार्टियों ने फैसला लिया कि संसद में गांधी प्रतिमा के पास 23 नवंबर को प्रदर्शन किया जाएगा।
10.21 AM: रेल मंत्री सुरेश प्रभु कानपुर ट्रेन हादसे पर दोनों सदनों में बयान देंगे।
10.20 AM: बीजेपी ने कहा, “हम बहस के लिए तैयार हैं और सुझावों के लिए भी दरवाजे खुले हैं, लेकिन नोटबंदी वापस नहीं ली जाएगी।”
10.15 AM: कांग्रेस ने नोटबंदी को लेकर अपोजिशन पार्टियों की मीटिंग में व्हिप जारी किया।
10.00 AM:नोटबंदी के खिलाफ दोनों सदनों में विपक्ष की रणनीति पर चर्चा हुई।
9.50 AM:सेशन शुरू होने से पहले सदन में अपोजिशन पार्टियों की मीटिंग शुरू हुई।
गुलाम नबी आजाद की माफी की मांग
विंटर सेशन के तीसरे दिन लोकसभा और राज्यसभा में विपक्ष और पक्ष के सांसदों ने जमकर हंगामा किया था, जिसके बाद सदन सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया था।बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने गुलाम नबी आजाद के बयान के विरोध में कहा, “ये लोग आकस्मिक मौतों और शहादत को एक जैसा बता रहे हैं। ये पैसों की राजनीति करते हैं, इसलिए नोटबंदी पर चीख-पुकार मच रही है।” बीजेपी ने मांग की थी कि गुलाम नबी आजाद गुरुवार को राज्यसभा में दिए बयान पर माफी मांगें।राज्यसभा की कार्यवाही से आजाद का बयान हटा दिया गया, लेकिन इसके साथ ही नायडू का बयान भी हटाया गया। बीजेपी इससे भी नाराज है|
सदन में आएं मोदी- विपक्ष
कांग्रेस और बसपा सुप्रीमो मायावती ने साफ कहा था कि मोदी सदन में आएं और जवाब दें। लेकिन वित्त मंत्री जेटली ने इस मांग को खारिज कर दिया। जदयू नेता शरद यादव ने कहा था कि ये सरकार की जिम्मेदारी है कि सदन अच्छी तरह चले। यहां सत्ता पक्ष के सांसद ही हंगामा कर रहे हैं।
बहस कीजिए, हंगामा नहीं- नायडू
बीजेपी नेता वेंकैया नायडू ने कहा था, ” कांग्रेस सदन में बहस नहीं चाहती है। इस पार्टी ने निराश किया। हमने कहा कि तुरंत चर्चा करो, हमें आपत्ति नहीं है। बहस कीजिए, हंगामा नहीं।” उन्होंने कहा कि राज्यसभा में एक दिन बहस हुई, विपक्ष ने सरकार की आलोचना की, कुछ लोगों ने सुझाव दिया। अचानक कांग्रेस ने हंगामा शुरू कर दिया। मामले को भटकाने की कोशिश की जा रही है। कांग्रेस के पास तथ्य नहीं है और ना पॉजिटिव प्रपोजल|