जेल प्रशासन के खिलाफ बंदियों ने खोला मोर्चा, सुल्तानपुर जिला जेल की घटना

11
SHARE

सुलतानपुर. यूपी के सुल्तानपुर ज़िला जेल में बंदियों की मारपीट के मामले को ठंडा होने में अभी एक सप्ताह भी नहीं बीता कि अब बंदियों ने जेल प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए आमरण-अनशन शुरु कर दिया है। अनशन पर बैठे बंदियों ने जेल प्रशासन पर अव्यवस्थाओं के गम्भीर  आरोप लगाए हैं।
*ये है पूरा मामला*
जानकारी के मुताबिक़ शुक्रवार से जिला जेल में बंदी अनशन पर हैं।
बंदी जेल के अंदर खराब खाना परोसे जाने और जेल में अव्यवस्थाओं के मुद्दे पर जेल प्रशासन के खिलाफ  आक्रोशित हो गए हैं।
इस बीच बंदियों ने अपनी मांगो को लेकर अनशन शुरू कर दिया है।
वहीं बंदियों द्वारा किये जा रहे अनशन की जानकारी पर जेल प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए।

*जिला प्रशासन के अधिकारियों के पहुँचने पर मानें बंदी*
वहीं जेल प्रशासन ने बंदियों को  मनाने की पहल करते हुए बंदियों की मिन्नतें की लेकिन बंदी जिद पर अड़े रहे।
मामला बिगड़ता देख जिला प्रशासन के अधिकारियों ने जेल पहुंच कर हालात का जायजा लिया। अधिकारियों ने जेल मैनुअल के हिसाब से बंदियों को सारी सुविधायें देने का आश्वासन दिया तब जाकर बंदी माने।

*शिकायत पर अधिकारी ने दिया ये हिदायत*
सनद रहे कि जिला जेल के बैरक नम्बर 7 और 8 के कुछ बंदियों ने जेल में खाना-खाने से इंकार कर दिया और अनशन पर बैठ गए।
जेल में अनशन की सूचना पर डीएम एस. राजलिंगम ने एडीएम (प्रशासन) शेषनाथ को जेल के हालात जानने के लिए भेजा।
एडीएम ने जेल पहुंचकर अनशनकारी बन्दियों से बात की, बन्दियों ने एडीएम से जेल प्रशासन द्वारा घटिया खाना दिए जाने की बात कही। बंदियों ने शिकायत की कि पंखे, शौचालय समेत तमाम अव्यवस्थायें हैं जिन्हे जेल प्रशासन ध्यान नही दे रहा ।
एडीएम ने उन्हें समझा कर जेल मैनुअल के हिसाब से जो भी सुविधायें हैं बंदियों को दिये जाने का आश्वासन दिया और बंदियों को शान्त कराया।